नई दिल्ली. भारतीय स्टेट बैंक या एसबीआई, देश का सबसे बड़ा वाणिज्यिक लोन देने वाला बैंक है. ये जीरो बैलेंस पर बचत खाता खोलने की सुविधा भी देता है. जिन ग्राहकों के पास ग्राहक केवाईसी दस्तावेज नहीं हैं वो ये खाता खोल सकते हैं. बैंक आमतौर पर ग्राहकों के खाते खोलने से पहले एक सख्त केवाईसी प्रक्रिया का पालन करते हैं. हालांकि, एसबीआई में छोटा खाता किसी के भी द्वारा खोला जा सकता है चाहे फिर ग्राहक के पास वैध केवाईसी दस्तावेज ना हों. हालांकि इसके लिए नियम है कि ग्राहक 18 वर्ष से अधिक आयु का हो. इस बारे में अन्य जानकारी एसबीआई की आधिकारिक वेबसाइट sbi.co.in पर भी दी गई है. हालांकि, केवाईसी दस्तावेज जमा करने पर, खाते को नियमित बचत खाते में परिवर्तित किया जा सकता है. एसबीआई के छोटे खातों के बारे में अन्य जानकारी ग्राहक नीचे पढ़ सकते हैं.

  • एसबीआई छोटे खाते को खोने के लिए कोई न्यूनतम राशि जमा करना या खाते में रखना जरूरी नहीं है. इस खाते में अधिकतम शेष राशि 50,000 रुपये रखी जा सकती है.
  • यदि शेष राशि 50,000 रुपये से अधिक है या खाते में कुल क्रेडिट एक वर्ष में 1,00,000 रुपये से अधिक है, तो एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार, पूर्ण केवाईसी प्रक्रिया पूरी होने तक किसी अन्य लेनदेन की अनुमति नहीं है.
  • एक छोटे खाते के मामले में एक महीने में ट्रांसफर और पैसे निकालने की ट्रांजेक्शन मिलाकर 10,000 रुपये से अधिक नहीं होना चाहिए.
  • खाता धारकों को एक महीने में अधिकतम चार बार पैसे निकालने की अनुमति दी जाती है, जिसमें एसबीआई और अन्य बैंकों के एटीएम से पैसे निकालना शामिल है.
  • एसबीआई छोटे खातों पर उतनी ही ब्याज दरें प्रदान करता है जितनी कि नियमित बचत बैंक खातों पर. बैंक 1 लाख रुपये से कम जमा पर सालाना 3.25 प्रतिशत की ब्याज दर प्रदान करता है.
  • एसबीआई छोटे खाते के धारकों को मुफ्त में एक बुनियादी रूपे एटीएम कम डेबिट कार्ड जारी करता है.
  • एसबीआई के छोटे खाते के लिए कोई वार्षिक रखरखाव शुल्क नहीं देना है. एनईएफटी/ आरटीजीएस जैसे इलेक्ट्रॉनिक भुगतान चैनलों के माध्यम से धन की प्राप्ति/ क्रेडिट मुफ्त है. केंद्र/ राज्य सरकार द्वारा जमा किए गए चेक का जमा/ संग्रह भी मुफ्त है. एसबीआई के छोटे खाते के लिए कोई खाता बंद करने का शुल्क नहीं है.
  • जब तक ग्राहक की पहचान आधिकारिक रूप से वैध दस्तावेजों के माध्यम से पूरी तरह से स्थापित नहीं हो जाती है, तब तक विदेश से भेजे गए पैसे को एसबीआई के छोटे खाते में जमा करने की अनुमति नहीं है.
  • एक छोटा खाता शुरू में बारह महीने की अवधि के लिए चालू रहता है और उसके बाद बारह महीने की एक और अवधि के लिए होता है.
  • छोटे खाते को एक नियमित बचत बैंक खाते या मूल बचत बैंक जमा खाते (ग्राहक के विकल्प पर) में परिवर्तित किया जाता है, जो कि केवाईसी के बाद मैन्युअल रूप से होम ब्रांच द्वारा किया जाता है. इस तरह के बदलाव के बाद, एसबीआई के अनुसार एक ही खाता संख्या जारी रहती है.

Also read, ये भी पढ़ें: SBI Zero Balance Savings Account: एसबीआई के जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट के लिए नहीं पड़ेगी KYC डॉक्यूमेंट्स की जरूरत, ब्याज दर में नहीं होगा बदलाव

How To Make Money In Mutual Funds: शेयर बाजार में पैसा लगाकर करें कमाई, जानें सबसे अच्छे म्यूचल फंड्स और किसमें कितना फायदा

Post Office Recurring Deposit RD Account: पोस्ट ऑफिस में आरडी अकाउंट खुलवाने से पहले जानें, कितना मिलेगा ब्याज और कब तक के लिए कर सकते हैं पैसा जमा

Monetary Policy Committee Repo Rate: मौद्रिक नीति समिति ने रेपो रेट 5.15 फीसदी पर रखा बरकरार, रिवर्स रेपो रेट 4.90 पर्सेंट, बैंक रेट 5.40 फीसदी, सरकार के कदम से अर्थव्यवस्था में और सुस्ती के आसार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App