नई दिल्ली. आधार कार्ड भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण, यूआईडीएआई द्वारा प्रदान किया जाता है. ये भारतीय नागरिकों के लिए पहचान पत्र के रूप में काम करता है. इसके अलावा इसी की मदद से सरकारी योजनाओं का भी लाभ लिया जा सकता है. कोई भी भारतीय नागरिक आधार कार्ड बनवा सकता है. आधार कार्ड बनवाने के लिए भारतीय नागरिक को यूआईडीएआई द्वारा संचालित केंद्र पर जाकर आधार के लिए आवेदन करना होता है. आधार कार्ड में व्यक्ति की बायोमेट्रिक्स और निजी जानकारी होती है. आधार बनवाने के बाद अपनी निजी जानकारी में किसी को कोई बदलाव करवाने हो तो वो भी करवाया जा सकता है.

बता दें कि आधार कार्ड में अपडेट करवाने के लिए दिए जाने वाले शुल्क में इजाफा किया गया है. 1 जनवरी 2019 से इस शुल्क को बढ़ा दिया गया है. जो भी धारक अपने आधार कार्ड में किसी तरह का बदलाव करवाना चाहते हैं उन्हें शुल्क का भुगतान करना होगा. आधार अपडेट शुल्क में इजाफा आधार अथॉरिटी यूआईडीएआई द्वारा किया गया है. इसी जानकारी ट्वीट करके यूआईडीएआई द्वारा दी गई थी. हालांकि से भी ध्यान रखा जाए की कुछ कामों के लिए किसी तरह का भुगतान नहीं करना पड़ेगा. जानें धारक को किस काम के लिए और कितना भुगतान करना होगा.

आधार आवेदन
जो भारतीय नागरिक पहली बार अपना आधार बनवा रहे हैं उन्हें आपना आधार आवेदन के लिए किसी तरह का कोई शुल्क नहीं देना होगा. आधार आवेदन प्रक्रिया बिल्‍कुल मुफ्त है. भारतीय नागरिक को केवल आधार केंद्र पर जाकर अपनी जानकारी देनी होगी.

बायोमैट्रिक अपडेट
जो भारतीय नागरिक पहली बार अपना आधार बनवा रहे हैं उन्हें आधार आवेदन के समय बायोमेट्रिक जानकारी देते समय किसी तरह का कोई शुल्क नहीं देना होगा. इसके अलावा बच्चों का भी मैनडेटरी बायोमैट्रिक अपडेट करवाने के लिए शुल्क नहीं देना होता. हालांकि व्यस्क को अपना बायोमेट्रिक अपडेट करवाते समय 50 रुपये का शुल्क जमा करवाना होगा.

निजी जानकारी अपडेट (नाम, पता, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी)
यदि कोई धारक आधार में अपनी निजी जानकारी जैसे अपना नाम, पता, मोबाइल, ई-मेल और बायोमेट्रिक जानकारी अपडेट करवाना चाहता है तो उसे इसके लिए 50 रुपये का शुल्क देना होगा.

कलर प्रिंट आउट
ईकेवाईसी के जरिए आधार सर्च/फाइंड आधार/या अन्य किसी टूल के इस्तेमाल और ए4 शीट कलर प्रिंट के लिए 30 रुपये का आधार शुल्क देना होगा.

शिकायत और हेल्पलाइन नंबर
यूआईडीएआई सुविधा देता है कि आधार केंद्रों पर कोई अधिकारी यदि अवैध वसूली करने की कोशिश करता है तो धारक इसकी शिकायत कर सकते हैं. किसी भी धारक को आधार अधिकारियों से जुड़ी शिकायत करने के लिए टॉल फ्री नंबर 1947 पर कॉल करना होगा. help@uidai.gov.in पर ई-मेल भेज कर भी धारक शिकायत दर्ज करवा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App