नई दिल्ली, रिजर्व बैंक ने बुधवार को अचानक रेपो रेट बढ़ाने का ऐलान कर हर किसी को चौका दिया है. बुधवार को रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने दोपहर 2 बजे अचानक प्रेस कांफ्रेंस कर रेपो रेट 0.40 फीसदी बढ़ाने की घोषणा की. केंद्रीय बैंक के इस फैसले के बाद अब रेपो रेट 4 फीसदी से बढ़कर 4.40 फीसदी हो गया है. अब आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने रेपो रेट बढ़ाने के पीछे की वजह बताई है.

शक्तिकांत दास ने बताई रेपो रेट बढ़ाने की वजह

आरबीआई गवर्नर ने बुधवार को अचानक रेपो रेट में बढ़ोतरी का ऐलान कर दिया. दास की इस बात से यह सवाल सबके मन में उठ रहा है कि आखिर अचानक ऐसा क्या होगा जो एकाएक रेपो रेट में बढ़ोतरी कर दी गई. बता दें इसपर आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि महंगाई के चलते उन्हें ये कदम उठाना पड़ा है. उनका कहना है कि इस फैसले से महंगाई में कमी आएगी. इतना ही नहीं सेंट्रल बैंक ने रेपो रेट के साथ ही कैश रिजर्व रेशियो (CRR) को भी 0.50 फीसदी बढ़ाने का ऐलान किया है. गवर्नर दास ने खुद बताया कि कैश रिज़र्व रेशियो यानि सीआरआर बढ़ाने के इस फैसले से मार्केट में लिक्विडिटी में 83,711 करोड़ रुपये की भारी-भरकम कमी आएगी. दास ने कहा कि आरबीआई का ये फैसला महंगाई को ध्यान में रखते हुए लिया गया है.

चालु वित्त वर्ष में महंगाई से राहत के कोई आसार नहीं

चालु वित्त वर्ष 2022-23 में महंगाई दर 5.7 फीसदी पर रहने का अनुमान है. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले महीने बताया था कि महंगाई की दर पहली तिमाही में 6.3%, दूसरी तिमाही में 5%, तीसरी तिमाही में 5.4% और चौथी तिमाही में 5.1% रह सकती है.

 

महाराष्ट्र: अजान के वक्त दोगुनी आवाज में बजी हनुमान चालीसा, कई मनसे कार्यकर्ता गिरफ्तार

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर