नई दिल्ली. देश में बढ़ते पेट्रोल और डीज़ल के दामों ने आम आदमी का जीना मुहाल कर दिया है लिहाजा RBI ने ( RBI on Petrol-Diesel Price hike ) सरकार को ईधन पर टैक्स कम करने की सलाह दी है. अक्टूबर महीने में ही पेट्रोल डीज़ल के दाम 8 बार बढ़ चुके है. राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 103.84 रुपये और डीजल 92.47 रुपये प्रति लीटर में मिल रहा है. वही अन्य मेट्रो शहरो में पेट्रोल की कीमत 104 रूपये से लेकर 110 रूपये तक चली गई है.

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने क्या कहा 

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि ईंधन पर अप्रत्यक्ष करों को चरणबद्व तरीके से नियंत्रित करने के प्रयास से मुद्रास्फीति को कम करने और मुद्रास्फीति की संभावित आशंका को कम करने में मदद मिलेगी।

पेट्रोल और डीज़ल के दामों के बढ़ने की वजह कच्चे तेल के दामों में आई तेजी बताई जा रही है. आपको बता दे पेट्रोल और डीज़ल पर केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों ही टैक्स वसूलती है. केंद्र एक्साइज ड्यूटी के तौर पर तो वही राज्य सरकार वैट के रूप में टैक्स लेती है.

पेट्रोल और डीज़ल को GST में शामिल करने की मांग हुई तेज़

पेट्रोल और डीज़ल को गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) में जोड़ने की मांग तेज हो रहीं है. दरसल GST के दायरे में आने से पेट्रोल और डीज़ल पर लगने वाले टैक्स पर कमी आ आएगी जिससे तेल के दाम कम होने की उम्मीद है. लेकिन हाल ही में हुए जीएसटी कॉउंसिल की बैठक में कई राज्यों ने पेट्रोल डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने का विरोध किया क्योंकि सरकार ले लिए यह अहम आमदनी का बड़ा स्रोत है. हाल ही में नेचुरल गैस के कीमतों में भी भारी इज़ाफ़ा किया गया है.

 

यह भी पढ़ें :

DU new Vice Chancellor : दिल्ली यूनिवर्सिटी के नये कुलपति बने प्रोफेसर योगेश सिंह

शादी की सालगिराह पर Saira Banu ने Dilip Kumar के लिए जाहिर किया प्यार

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर