नई दिल्ली. HDFC Bank Net Banking Down From 3 Days: एचडीएफसी बैंक का डिजिटल बैंकिंग चैनल लगातार तीन दिन से काम नहीं कर रहा है. बैंक ने सोशल मीडिया पर ग्राहकों की शिकायतों का जवाब देते हुए, एक तकनीकी गड़बड़ी को जिम्मेदार ठहराया, जो कि बैंक द्वारा गठित विशेषज्ञों की एक टीम सुलझाने के लिए काम कर रही है. हालांकि, बैंक किसी अपेक्षित समाधान के लिए कोई समयरेखा प्रदान नहीं कर पाया है. कई घंटों से ज्यादा डिजिटल सेवा के काम ना करने पर बैंककी ओर से मंगलवार की दोपहर को ट्वीट किया गया जिसमें कहा गया कि हम माफी मांगते हैं कि तकनीकी गड़बड़ प्रत्याशित से अधिक समय ले रहा है. हमारे विशेषज्ञ चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं. जबकि कुछ ग्राहक नेट-बैंकिंग और मोबाइलबैंकिंग ऐप का उपयोग करके लेन-देन करने में सक्षम हैं, कुछ अभी भी रुक-रुक कर परेशानी का सामना कर सकते हैं.

मंगलवार को बैंक के शेयर 0.77 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,255 रुपये पर बंद हुए. बैंक के सूत्रों ने सुझाव दिया कि ग्राहकों के वेतन खातों पर पेमेंट लेनदेन से जुड़े भारी ट्रैफिक के कारण बैंक के मोबाइल एप्लिकेशन सर्वर सोमवार सुबह दुर्घटनाग्रस्त हो गए हैं. माना जा रहा है कि बैंक के पास देश में सबसे अधिक वेतन खाते हैं, जो इसे दुनिया के सबसे बड़े खुदरा बैंकों में से एक बनाता है. सितंबर के अंत तक, बैंक में 2.9 करोड़ डेबिट कार्डधारक और 1.3 करोड़ क्रेडिट कार्ड खाते थे.

इस बीच, ट्विटर पर पूरे दिन #hdfcbankdown ट्रेंड कर रहा था, क्योंकि हजारों ग्राहकों ने अपने खातों को बंद कर दिया था और अपने बिलों का भुगतान करने में असमर्थ थे, अपनी नाराजगी व्यक्त करने के लिए माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर ले गए. एचडीएफसी बैंक लगभग 50 मिलियन के ग्राहक आधार के साथ सबसे बड़ा निजी ऋणदाता है, जिसमें से, बैंक की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, इंटरनेट के माध्यम से 90 प्रतिशत से अधिक लेनदेन होता है. संयोग से, निजी ऋणदाता के मोबाइल एप्लिकेशन में पिछले साल उसी समय के आसपास एक समान दुर्घटना देखी गई थी जब आवेदन का एक नया संस्करण महीने के आवागमन के अंत में नहीं ले सकता था.

Also read, ये भी पढ़ें: How To Get Personal Loan Easily: पर्सनल लोन आसानी से पाने के लिए इन नियमों की जानकारी जरूरी, तभी फायदा

GDP Growth Rate India: नरेंद्र मोदी सरकार में ढह रही है देश की अर्थव्यवस्था, जीडीपी की दर में फिर गिरावट

GDP Growth Rate Declines in Q2: जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी की दर 0.5 फीसदी गिरी, 6 साल बाद 4.5 प्रतिशत के इतने कम स्तर पर पहुंचा भारत का सकल घरेलू उत्पाद

Modi Government Overruled RBI on Electoral Bonds: राजनीतिक चंदे के लिए आरबीआई के खिलाफ जाकर नरेंद्र मोदी सरकार लाई थी इलेक्टोरल बॉन्ड?