Thursday, August 11, 2022

स्मृति ईरानी को अल्पसंख्यक और सिंधिया को स्टील मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली

नई दिल्ली, गुरुवार को मुख़्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह ने मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया, जिसके बाद अब स्मृति ईरानी को अल्पसंख्यक मंत्री और ज्योतिरादित्य सिंदिया को स्टील मंत्री बनाया गया है. स्मृति ईरानी कांग्रेस नेता राहुल गांधी को अमेठी से लोकसभा चुनाव हराकर संसद पहुंची थीं, वहीं, ज्योतिरादित्य सिंधिया की बात करें तो सिंधिया मध्य प्रदेश से भाजपा के राज्यसभा सांसद हैं. आज (6 जुलाई) ही मुख्तार अब्बास नकवी ने इस्तीफा दिया थे, वे अल्पसंख्यक मंत्रालय संभाल रहे थे. नकवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने के बाद इस्तीफा दिया था.

दरअसल, मोदी सरकार के दो मंत्रियों के राज्यसभा सदस्य का कार्यकाल गुरुवार को खत्म हो रहा है, इनमें मुख्तार अब्बास नकवी के अलावा जदयू कोटे से आरसीपी सिंह का नाम भी शामिल है, ये दोनों नेता फिलहाल 6 जुलाई के बाद किसी भी सदन के सदस्य होंगे. हालांकि बिना सांसद रहे भी छह महीने तक ये दोनों मंत्री रह सकते हैं, लेकिन पीएम मोदी ने कैबिनेट में इन्हें विदाई दे दी. खबरें हैं कि पार्टी इन्हें कोई बड़ी ज़िम्मेदारी दे सकती है, लेकिन अब पार्टी आगे इनके लिए क्या सोचती है ये तो आने वाले वक़्त में ही पता चलेगा.

पीएम मोदी ने दी विदाई

नकवी आज अपनी आखिरी कैबिनेट बैठक में शामिल हुए थे, इस बैठक में पीएम मोदी ने मंत्री के तौर पर नकवी के योगदान की सराहना की. इसके साथ ही आज आरसीपी सिंह भी आखिरी बैठक में शामिल हुए थे. इस बैठक में पीएम मोदी ने दोनों केंद्रीय मंत्रियों को विदाई देते हुए कहा था कि दोनों ने मंत्री रहते हुए देश के विकास में अभूतपूर्व योगदान दिया है. बता दें इन दोनों ही मंत्रियों का राज्यसभा कार्यकाल सात जुलाई को समाप्त हो रहा है.

नकवी को दी जा सकती है बड़ी ज़िम्मेदारी

सियासी गलियारों में अटकलें लगाई जा रही हैं कि मुख़्तार अब्बास नकवी को बड़ी ज़िम्मेदारी देते हुए उन्हें उपराष्ट्रपति या जम्मू कश्मीर का उपराज्यपाल बनाया जा सकता है.

 

महाराष्ट्र: पूछताछ के लिए ईडी कार्यालय पहुंचे संजय राउत, कहा- जिंदगी में कभी गलत काम नहीं किया

Latest news