त्रिपुरा, त्रिपुरा के मौजूदा मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. बिप्लब कुमार देब ने राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य को अपना इस्तीफ़ा सौंपा है. इस्तीफे पर बिप्लव देव ने कहा कि उन्होंने संगठन के हित को देखते हुए इस्तीफ़ा दिया है.

इस्तीफा देने के बाद उन्होंने मीडिया से कहा कि उनके लिए पार्टी सर्वोपरि है, पार्टी से बढ़कर कुछ नहीं है. बिप्लब देव ने बताया कि आलाकमान के कहने पर उन्होंने अपना पद छोड़ दिया है. हालांकि उन्होंने त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री के सवाल पर कोई जवाब नहीं दिया है.

बिप्लव देव को लेकर संगठन में थी नाराजगी

बता दें बिप्लव देव को लेकर संगठन में नाराजगी चल रही है. दो विधायकों ने भी इसके चलते पार्टी छोड़ दी है और विधानसभा चुनावों की रणनीति को लेकर भाजपा कोई रिस्क नहीं लेना चाहती है. मालूम हो कि अगले साल 2023 में राज्य में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. गुजरात की तर्ज पर त्रिपुरा में मंत्री से लेकर संगठन तक में बड़े फेरबदल देखने को मिल सकते हैं. खबरें हैं कि इस्तीफे के बाद बिप्लब देव संगठन में किसी पद को संभाल सकते हैं. इस्तीफा देने के बाद उन्होंने मीडिया से कहा कि उनके लिए पार्टी सर्वोपरि है, पार्टी से बढ़कर कुछ नहीं है.

बिप्लब देब ने आगे कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता भाजपा को फिर से सत्ता में लाना है. लंबे समय तक हमें त्रिपुरा में भाजपा को सत्ता में बनाए रखने की जरूरत है. जब तक हमारे पास एक मजबूत संगठन है और हम सरकार में हैं, यह सबसे महत्वपूर्ण है कि हम सत्ता में बने रहें. गौरतलब है, बिप्लव देब 2018 में मुख्यमंत्री बने थे. अगले साल त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं.

 

दिल्ली: मुंडका अग्निकांड में अब तक 27 लोगों की मौत, NDRF का बचाव अभियान जारी

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर