पटना. 15वीं बिहार विधानसभा के आखिरी सत्र की समाप्ति के बाद शुक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि अब उन्हें जनता का सामना करना है. उन्होंने कहा, ‘वे (बीजेपी) जुमलों के सहारे जनता के बीच जाएंगे और झांसा देंगे, लेकिन हम तो अपने किए गए कामों को लेकर जाएंगे.’ 

भागलपुर दंगा: कांग्रेस सरकार और पुलिस अफसर जिम्मेदार

नीतीश ने कहा, ‘सत्र का समापन हो गया. यह बिहार विधानसभा का आखिरी और महत्वपूर्ण सत्र था. इसमें कई महत्वपूर्ण विधेयक दोनों सदन के पटल पर रखे गए और स्वीकृत हुए. सबसे महत्वपूर्ण बात लोक शिकायत निवारण अधिकार विधेयक-2015 की स्वीकृति रही.’

भागलपुर दंगों में कांग्रेस-लालू ने दंगाईयों को बचाया: मोदी

मुख्यमंत्री ने आगे कहा, ‘सरकार किसी भी विषय पर सदन में चर्चा को तैयार थी, लेकिन विपक्ष तैयार नहीं था. मैं तो चाहता था कि प्रश्नोत्तर काल हो, लेकिन विपक्ष ने पूरे सत्र का समय गंवा दिया. खैर जो भी होना था, हो गया.’ नीतीश ने कहा कि अब हम सब जनता के दरबार में जाएंगे और राज्य के लोग ही फैसला करेंगे कि बिहार को किस ओर ले जाना है. 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App