पटना, भोजपुरी स्टार खेसारी लाल यादव ने हाल में एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें एक शख्स उन्हें और उनके परिवार को गाली दे रहा था, इतना ही नहीं, वीडियो में शख्स ने खुद को पवन सिंह का फैन भी बताया. बस यहीं से मामला भड़क उठा है. और अब इस लड़ाई पर भोजपुरी डीवा रानी चटर्जी ने भी अपनी राय रखी है. इसके साथ ही, रानी ने उस पल के बारे में भी बताया कि जब हीरो के कहने पर उन्हें फिल्म से बाहर निकाल दिया गया था.

जब रानी चटर्जी को फिल्म से निकाला

रानी चटर्जी ने बताया कि उन्हें कई बार अचानक फिल्मों से निकाला गया है, रानी में उस वक़्त के बारे में बात करते हुए बताया, “मुझे कई बार फिल्मो से निकाला गया है मसलन मैं एक बार मनोज तिवारी संग एक फिल्म के लिए साइन हुई थी, उसका पहला चेक भी ले लिया था. मुझे उसी दिन प्रोड्यूसर का कॉल आता है और कहते हैं कि हीरो चाहते हैं आप लीड नहीं सेकंड लीड बन जाओ, मैंने उसी वक़्त अपना चेक वापस कर दिया. रवि किशन के वक्त भी यही हुआ कि डायरेक्टर आकर कहने लगे कि हीरोइन की जगह तुम फिल्म में हीरो की बहन बन जाओ. ऐसे कई किस्से रहे हैं, जहां मुझे ‘मोटी’, ‘हीरोइन मटेरियल नहीं है’, ‘डांस नहीं आता’ जैसे टैग देकर फिल्म से बाहर निकाला गया है.”

हेरोइन के साथ बुरे बर्ताव पर कुछ नहीं बोलते अभिनेता


भोजपुरी सुपरस्टार खेसारी लाल यादव और पवन सिंह की लड़ाई में अब अभिनेत्री रानी चटर्जी ने अपनी बात रखी है. उन्होंने कहा कि जब इनके बारे में कोई कुछ बोलता है तो ये पुलिस और मंत्री तक पहुँच जाते हैं, लेकिन जब इनके साथ काम करने वाली एक्ट्रेसेस के बारे में अपशब्दों का इस्तेमाल किया जाता है तो ये चुप हो जाते हैं. एक बारे मैंने खेसारी जी से कहा था कि एक्ट्रेसेस को जो लोग सोशल मीडिया पर इतना खराब बोलते हैं उसपर आपलोग एक वीडियो ही बना दीजिये, शायद कोई असर हो. लेकिन, उन्होंने मेरी न सुनी.

अक्षरा सिंह को दी गई थी गालियां

रानी चटर्जी ने आगे कहा कि जब भी कोई अभिनेत्री किसी अभिनेता के खिलाफ बोलती है तो सोशल मीडिया पर उसे बुरी तरह ट्रोल किया जाता है, उसे भद्दी गालियां दी जाती हैं. इसी कड़ी में, रानी चटर्जी ने उस वक़्त के बारे में भी बताया जब अक्षरा सिंह और पवन सिंह का ब्रेकअप हुआ था तब अक्षरा सिंह को बहुत भद्दी गालियों का सामना करना पड़ा था. इसके आगे रानी ने पवन सिंह पर भी वार करते हुए कहा कि, “अक्षरा को इतनी गन्दी गालियां दी गई लेकिन पवन ने इसके खिलाफ कुछ नहीं कहा. कहते भी कैसे, इन्हें तो ऐसी कॉन्ट्रोवर्सीज की ज़रूरत पड़ती है नहीं तो इनकी फिल्म कोई क्यों देखेगा.”

 

जोधपुर हिंसा: झंडा लगाने को लेकर दो पक्षों में पत्थरबाजी, 3 पुलिसकर्मी घायल

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर