नई दिल्ली: कामयाबी और हौसले की उड़ान की ऐसी कहानी जिसे सुनकर आप भी हैरान हो जाएंगे. ऐसी कामयाबी जिसकी शुरुआत व्हील चेयर से हुई.
 
ऐक ऐसी बेटी जिनके कमर के नीचे का हिस्सा पैरालाइज्ड है. 31 सर्जरी और 183 टांके लगने के बाद तो हर कोई अपनी जिंदगी से हार मान ले. देश की इस बेटी का नाम दीपा है. 
 
दीपा तैराकी की अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में कई पदक जीत चुकी है. दीपा भारत की ऐसी महिला हैं जिसने कार रैली में हिस्सा लिया. इसके साथ ही दीपा का नाम दो बार लिम्का बुका ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है. दीपा को भारत सरकार की तरफ से अर्जुन पुरस्कार से भी नवजा गया है.
 
दीपा ने 2016 रियो पैरालंपिक में शॉटपूट में सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रचा है. गोला फेक के अलावा दीपा ने भाला फेंक और तैराकी में भीद देश का नाम रौशन किया है.
 
देश की इस होनहार बेटी का जन्म हरियाणा के सोनीपत के भैंसवाल में हुआ था. दीपा मलिकी की दो बेटियां भी हैं. 
 
17 साल पहले दीपा को रीढ़ में ट्यूमर हुआ था. इस ट्यूमर की वजह से दीपा का 31 बार ऑपरेशन हुआ. दीपा की जिंदगी अब व्हीलचेयर के सहारे चल रही है. दीपा हौसले की जीती-जागती मिसाल है. आप भी सुनिए दीपा की पूरी कहानी इंडिया के खास शो बेटियां में.
 
वीडियो में देखें पूरा शो

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App