नई दिल्ली. दिल्ली में बढ़ती रेप वारदातों के मद्देनज़र दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि जघन्य वारदात को अंजाम देने वाले 15 साल के दोषियों को भी बालिग मानकर या तो उम्रकैद की सजा दी जाए या फांसी की सजा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में महिलाओं के खिलाफ अपराध और दुष्कर्म बढ़ने की एक मुख्य वजह बदमाशों के दिलों में कानून का खौफ न होना है. केजरीवाल का कहना है कि मुझे नहीं लगता कि सारे बुरे लोग दिल्ली में ही रहते हैं और कोलकाता, न्यूयॉर्क, लंदन या वाराणसी जैसी जगहों पर रहने वाले लोग साधु-संत हैं. फर्क बस इतना है कि दिल्ली में कानून का डर नहीं है.

केजरीवाल की ओर से ये बयान दिल्ली पुलिस को उनके अधीन करने की मांग किए जाने के एक दिन बाद आया है. दिल्ली पुलिस इस वक्त दिल्ली सरकार को नहीं, बल्कि उपराज्यपाल नजीब जंग और केंद्रीय गृह मंत्रालय को रिपोर्ट करती है.

शनिवार को भी अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली पुलिस को दिल्ली सरकार के हवाले करने की मांग दोहराई थी. केजरीवाल दिल्ली पुलिस में 16 हजार और भर्तियां करने की मांग भी कर रहे हैं, मौजूदा समय में दिल्ली पुलिस ने 79 हजार जवान हैं.

अरविंद केजरीवाल पहले ही कह चुके हैं कि वो महिला सुरक्षा के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी को चैन से सोने नहीं देंगे. केजरीवाल के इस बयान के बाद विपक्ष ने उनपर रेप पर राजनीति करने का आरोप लगाया है.

वीडियो में देंखे आज के पांच सवाल

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App