नई दिल्ली. डेंगू, दिल्ली मे महामारी की शक्ल लेता जा रहा है, कई बच्चों समेत अब तक 17 लोग मौत के मुंह में समा चुके हैं, हजारों लोग बीमार हैं. बीमारी के बोझ तले सरकारी अस्पतालों के इंतजाम चरमरा रहे हैं, लेकिन दिल्ली के आका सत्ता के लिए मरीजों की जान की बाजी लगाने से भी बाज नहीं आ रहे हैं. मरीजों और बीमारी के नाम का रोना तो जमकर रोया जा रहा है, लेकिन हुक्मरानों का मिजाज देखकर आंसुओँ पर भी शक होने लगा है.
 
 
दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने संविधान के दायरे से ऊपर उठकर केंद्र के हर निर्देश की नाफरमानी की और अब ऐसे संगीन मौके पर केंद्र सरकार दिल्ली के अफसरों को चिट्ठी लिखकर ताकीद कर रही है कि केजरीवाल सरकार का आदेश माना, तो बख्शा नहीं जाएगा. दो लठैतों के बीच फंसी दिल्ली की बेचारी डेंगू पीड़ित जनता अब करे तो क्या करे ? 
 
देखिए बीच बहस में-