नई दिल्ली. महंगी तेज रफ्तार कार की ड्राइविंग सीट पर बैठकर कोई नाबालिग सड़क चलते किसी शख्स को रौंद डाले और उसकी जान ले ले तो जिम्मेदार कौन होगा? 
 
वो नाबालिग जिसके हाथों में स्टेयरिंग थी या पुलिस जिसने कार चलाते नाबालिग को नहीं पकड़ा. सवाल उसके माता पिता पर भी उठ रहा है जिन्हें पता है कि उनके बच्चे को गाड़ी चलाने का कानूनी अधिकार नहीं है फिर भी वो उसे गाड़ी की चाबी सौंप देते है.
 
दिल्ली में सोमवार को ऐसी ही एक घटना में सिद्धार्थ शर्मा नाम के एक युवक की मौत हो गई. अब ये सवाल बहस का मुद्दा बन गया है कि सिद्धार्थ की मौत का असल जिम्मेदार कौन है? पुलिस, या कार चलाने वाला वो नाबालिग, या उस नाबालिग के मां-बाप ?
 
इंडिया न्यूज के खास शो ‘बीच बहस में’ इसी अहम मुद्दे पर देखिए चर्चा.
 
 
वीडियो क्लिक करके देखिए पूरी खबर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App