नई दिल्ली. दिल्ली सचिवालय में सीबीआई की छापेमारी के बाद पैदा हुए विवाद में अभी तक वित्त मंत्री अरुण जेटली पर हमले जारी थे लेकिन इस बार अरविंद केजरीवाल पर भी सवाल उठने लगे हैं. भ्रष्टाचार के खिलाफ काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल ने मुख्यमंत्री के उन दावों की पोल खोल दी है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर उन्हें इस बात का पता होता कि राजेंद्र पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं, तो वो खुद उन पर कार्रवाई करते. 
 
दरअसल, भ्रष्टाचार के खिलाफ काम करने वाली संस्था ने 27 मई को ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को एक चिट्ठी लिखी थी, जिसमें कहा गया कि उसके पास राजेंद्र कुमार के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति और भ्रष्टाचार की शिकायत है. दिलचस्प बात यह है कि मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से इस चिट्ठी पर कार्रवाई तो दूर, इसे संज्ञान में भी नहीं लिया गया. उधर सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने भी केजरीवाल को सलाह दी है कि उन्हें किसी भी व्यक्ति को अपना प्रिन्सिपट सेक्रेट्री बनाने से पहले उसका बैकग्राउंड जांच लेना चाहिए था.
 
 
 
 
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App