नई दिल्ली. हैडलैंप्स और टेललाइटें बनाने वाली कंपनी इंडिया-जापान लाइटनिंग की हरियाणा के बावल स्थित फैक्ट्री में मंगलवार रात भयंकर आग लग गई. इस वजह से फैक्ट्री को बंद कर दिया गया है. इंडिया-जापान लाइटनिंग, मारूति सुज़ुकी समेत कई और कार कंपनियों को हैडलैंप्स और टेललाइटें सप्लाई करती है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ऐसे में माना जा रहा है कि खासतौर पर मारूति सुज़ुकी पर इसका ज्यादा असर पड़ सकता है. मारूति पर पहले ही कॉम्पैक्ट एसयूवी विटारा ब्रेज़ा और प्रीमियम हैचबैक बलेनो की मांग को पूरा करने का भारी दबाव बना हुआ है. बुधवार को जारी आधिकारिक बयान में मारूति सुज़ुकी ने कहा कि फिलहाल तो पहली शिफ्ट में कारों का प्रोडक्शन हो रहा है. पूरे दिन के प्रोडक्शन के लिए हम आगे की सप्लाई की स्थिति का अंदाज़ा लगा रहे हैं.
 
कंपनी की पार्ट्स सप्लाई को बाधित करने वाली यह दूसरी बड़ी घटना है. इससे पहले मारूति कारों के लिए एसी सप्लाई करने वाली मानेसर की सुब्रोस कंपनी की फैक्ट्री आग की चपेट में आ गई थी.
 
इसके चलते मारूति को मानेसर प्लांट में प्रोडक्शन सस्पेंड करना पड़ा था. इसका असर यह हुआ कि कंपनी को 25000 कारों के प्रोडक्शन का घाटा झेलना पड़ा था. मारूति के अलावा इंडिया-जापान लाइटनिंग होंडा कार्स इंडिया को भी पार्ट्स सप्लाई करती है. इस कंपनी की चेन्नई में भी फैक्ट्री है. यहां से रेनो और निसान को पार्ट्स सप्लाई होते हैं.