नई दिल्ली. देश के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय जवाहरलाल नेहरु में विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. देशद्रोही नारों को लेकर जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया है.
 
कन्हैया को संसद हमले के दोषी अफजल गुरू की फांसी के खिलाफ परिसर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान देशद्रोही नारों के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. इस बीच मामले को लेकर राजनेताओं के बयान भी सामने आ रहे हैं.
 
क्या है मामला ?
 
बता दें कि जेएनयू परिसर में छात्रों के एक समूह ने एक कार्यक्रम आयोजित किया था और संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को वर्ष 2013 में फांसी दिए जाने के मुद्दे पर सरकार एवं देश के खिलाफ कथित तौर पर नारे लगाए थे.
 
विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से इस समारोह के आयोजन की अनुमति रद्द किए जाने के बावजूद यह आयोजन किया गया था. यह अनुमति एबीवीपी के सदस्यों की ओर से शिकायत किए जाने के बाद रद्द की गई थी. एबीवीपी सदस्यों ने इस आयोजन को ‘राष्ट्र-विरोधी’ करार दिया था. 
 
विश्वविद्यालय परिसर में इस तरह के विवाद से तरह-तरह के सवाल उठ रहे हैं जिसमें एक ओर यह माना जा रहा है कि कहीं यह कुछ छात्रों की राजनीति का हिस्सा तो नहीं. एक तरफ सवाल यह उठ रहा है कि इस तरह के विवाद से जेएनयू जैसे प्रतिष्ठित परिसर की छवि देशभर में नाकारात्मक रुप प्रदर्शित हो रही है.
 
सवाल कई हैं जो अपने आप में बड़ी चर्चा का मुद्दा बने हुए हैं. इंडिया न्यूज के खास शो ‘अर्ध सत्य’ में  जेएनयू के देशद्रोह कांड का पूरा सच जानिए मैनेजिंग एडिटर राणा यशवंत की जुबानी.
 
वीडियो क्लिक कर देखिए पूरा शो

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App