वॉशिंगटनः अमेरिका के एफडीआई यानी (फेडरल ब्यूरो ऑफ इनवेस्टिगेशन) ने 1986 में पैम एएम फ्लाइट 73 को हाईजैक करने वालों चार आतंकवादियों की तस्वीर जारी की है. जिसमें नीरजा भनोट सहित 20 लोगों की मौत हो गई थी. भारत की नीरजा भनोट ने अपनी जान पर खेल कर अपनी जान पर खेलकर 360 लोगों की जान बचाई थी. हाइजैकर्स मोहम्मद अल टर्की, जमाल सईद अब्दुल रहीम, मोहम्मद अब्दुल्ला खलिल हुसैन अर्याल और मोहम्मद अहमद अल मुन्नव्वर से लोगों को बचाने में नीरजा को अपनी जान गंवानी पड़ी थी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इन चारों हत्यारों की तस्वीरें एफबीआई की प्रयोगशाला में तैयार किया गया है. इन तस्वीरों को साल 2000 में एफबीआई को मिले तस्वीरों के आधार पर बनाया गया है. एफबीआई ने ट्वीट कर चारो की फोटो शेयर करते हुए यह जानकारी दी. प्लेन हाईजैक में नीरजा भनोट समेच 20 लोगों की मौत हो गई थी. उनकी इस बहादुरी पर भारत सरकार ने उन्हें अशोक चक्र से नवाजा था. बता दें कि नीरजा पहली ऐसी नागरिक थी, जिन्हें अशोक चक्र जैसे सैनिक सम्मान से नवाजा गया था.

जानें नीरजा भनोट की बहादुरी की कहानी
5 सितंबर को अमेरिका जाने वाली पैम एम 73 के कराची पहुंचते ही फ्लाइट हाईजैक कर ली गई जिसमें नीरजा भनोट भी सवार थीं. सिक्योरिटी की ड्रेस में विमान में घुसे आतंकियों ने नीरजा को सारे यात्रियों का पासपोर्ट इकट्ठा करने का आदेश दिया जिससे यात्रियों के बारे में पता न चल सके. अंदर घुसते ही आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी और एयरक्राफ्ट को कब्जे में ले लिया. आतंकी उस फ्लाइट को इजरायल ले जाकर क्रैश कराना चाहते थे. इसी दौरान नीरजा ने हिम्मत दिखाते हुए इमरजेंसी दरवाजे से लगभग सभी को बाहर निकाल दिया लेकिन 3 बच्चों को बाहर निकालते वक्त आतंकियों ने नीरजा पर गोलियों की बौछार कर दी जिससे उनकी मौत हो गई.

यह भी पढ़ें- सोनम कपूर की नीरजा फिर विवादों में, प्रोडयूसर ने दी सफाई, नीरजा भनोट का परिवार जाएगा कोर्ट

नीरजा  का धमाल तीसरे हफ्ते भी जारी, अब तक कमाए 65.24 करोड़