कुआलालंपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आखिरी दिन दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों पर बातचीत हुई. पीएम नजीब रजाक ने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘मैन ऑफ एक्शन’ हैं, वो दोनों देशों के बीच समझौतों को जल्द से जल्द अमलीजामा पहुंचाना चाहते हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत और मलेशिया के बीच पुराना रिश्ता है. दोनों देश एक साथ मिलकर एक नए अध्याय की शुरुआत कर सकते हैं.
 
मोदी ने तोरण गेट का किया उद्घाटन
पीएम मोदी ने सोमवार को मलेशिया में तोरण गेट का उद्घाटन किया. इसका निर्माण सांची के स्तूप की तर्ज पर किया गया है. उन्होंने कहा कि मलेशिया में तोरण गेट लिटिल इंडिया की पहचान बनेगा. हर साल भारत से बड़ी संख्या में पर्यटक मलेशिया जाते हैं. तोरण गेट से दोनों देशों के बीच मित्रता बढ़ेगी. 
 
‘रक्षा सहयोग करेंगे मजबूत’
पीएम मोदी ने कहा हम रक्षा सहयोग को मजबूत बनाएंगे. साइबर सुरक्षा पर भी हमारा समझौता बहुत महत्वपूर्ण है. हम अपनी साझेदारी को बढ़ाने की दिशा में नई स्फूर्ति से काम करेंगे. हम सुरक्षा सहयोग जारी रखेंगे. पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देश रणनीतिक साझेदारी को एक नई ऊंचाई पर ले जाएंगे. सुरक्षा के मामले में दोनों देशों को एक दूसरे के साथ मिलकर काम करने की जरुरत है.
 
‘आतंकियों की भर्तियों के लिए न हो इंटरनेट’
मोदी ने कहा कि आतंकवाद आज पूरी दुनिया के लिए खतरा है. आतंकवाद की कोई सीमा नहीं होती, कोई सरहद नहीं होती है. मोदी ने कहा कि आतंकवाद से निपटने के लिए सभी देशों को एकजुट होना चाहिए और किसी भी देश को दहशतगर्दों की मदद नहीं करनी चाहिए. आतंकियों की भर्ती के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए.
 
इससे पहले, मोदी की तीन दिवसीय मलेशिया यात्रा के दूसरे दिन यहां उनका भव्य स्वागत किया गया. मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक ने गले मिलकर मोदी का स्वागत किया. इसके बाद मोदी को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. मोदी ने शनिवार को 13वें आसियान (दक्षिणपूर्व एशियाई देशों के संघ)-भारत शिखर सम्मेलन में शिरकत की और रविवार को 10वें पूर्वी एशिया सम्मेलन में भी हिस्सा लिया.