वैंकूवर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कनाडा के प्रधानमंत्री स्टीफन हार्पर के साथ एक गुरुद्वारे तथा एक मंदिर में गए और कहा कि हिन्दुत्व एक धर्म नहीं, बल्कि एक जीवनशैली है. टोरंटो से वैंकूवर पहुंचे पीएम मोदी और हार्पर सीधे गुरुद्वारा गए, जहां उन्होंने प्रार्थना सभा में भाग लिया. उन्हें ‘सरोपा’ भेंट किए गए. गुरुद्वारे में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कनाडा में बसे सिखों ने यहां अपने काम के जरिये भारत के लिए सम्मान हासिल किया है.

उन्होंने गुरु नानक की शिक्षाओं तथा शहीद भगत सिंह समेत भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सिखों की भूमिका के बारे में बात की. मोदी ने इस बात को रेखांकित किया कि किस प्रकार सिखों ने बलिदान दिया और इसी संदर्भ में उन्होंने मानवता के लिए काम करने की जरूरत पर बल दिया. इसके बाद मोदी और हार्पर लक्ष्मी नारायण मंदिर गए, जहां उन्होंने एक बार फिर कनाडा में रह रहे भारतीयों की सराहना की. उन्होंने हिन्दू धर्म के जरिये मानवता के लिए काम करने की जरूरत जताई.

मोदी ने कहा, भारत में सुप्रीम कोर्ट ने ‘हिन्दू धर्म’ की बड़ी सुंदर परिभाषा दी है… सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि हिन्दू धर्म कोई धर्म नहीं है, बल्कि यह एक जीवनशैली है… मैं समझता हूं कि सुप्रीम कोर्ट की परिभाषा रास्ता दिखाती है. उन्होंने कहा कि हिन्दू धर्म ने वैज्ञानिक जीवन पद्धति के जरिये वन्यजीवों समेत प्रकृति के लाभ के लिए काम किया है. उन्होंने कहा, यह जीवन की छोटी समस्याओं के समाधान का रास्ता दिखा सकता है. प्रधानमंत्री ने 21 जून को संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित किए जाने का भी जिक्र किया. उन्होंने भारतीय समुदाय से मानवता के लाभ के लिए योग के बारे में संदेश को प्रसारित किए जाने को कहा. उन्होंने दोनों धार्मिक स्थलों पर द्विपक्षीय संबंधों के विकास में भारतीय मूल के कनाडाई लोगों की भूमिका को प्रमुखता से सराहा.