वाशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पश्चिम अफ्रीकी देशों में इबोला वायरस से मुकाबले में महत्वपूर्ण प्रगति दिखने के बावजूद वायरस को लेकर लापरवाही न बरतने के लिए लोगों को आगाह किया. उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य अब इबोला संक्रमण के मामलों को शून्य तक पहुंचाना है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, ओबामा ने बुधवार को व्हाइट हाउस में सिएरा लियोन, गिनी और लाइबेरिया के राष्ट्रपतियों के साथ बैठक के दौरान ये बातें कही.

ये तीन पश्चिम अफ्रीकी देश इबोला संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए थे. ओबामा ने कहा, “पिछले सप्ताह 40 से कम मामले देखे गए, तो हम कह सकते हैं कि हमने प्रगति की है, लेकिन हम इस समय लापरवाही नहीं बरत सकते. यह वायरस खतरनाक और अप्रत्याशित है.” उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को इन तीन देशों के साथ पूरी तरह से जुड़े रहना है, जब तक कि यहां इबोला के मामले शून्य तक नहीं पहुंच जाते.

ओबामा और कास्त्रो ने मिलकर किया नए युग का आगाज़

ओबामा ने इबोला महामारी को एक ‘आर्थिक संकट’ बताते हुए कहा कि अफ्रीकी नेता अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक से मिलकर आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने की गुजारिश करेंगे. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक पश्चिम अफ्रीका में बीते सप्ताह इबोला के 37 मामलों की पुष्टि हुई थी, जो इस साल का सबसे कम आंकड़ा है.