लंदन. ब्रिटेन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ब्रिटेन दौरे का लंदन में कुछ संगठन विरोध कर रहे हैं. विरोध की अगुवाई कर रहे संगठन “आवाज” ने शहर में पोस्टर लगाने के साथ साथ ब्रिटिश संसद की दीवाल पर “मोदी नॉट वेलकम” के पोस्टर को प्रोजेक्टर से दिखाया है. 
 
इसके अलावा पीएम मोदी के दौरे से पहले कई एनजीओ, कई सिख संगठन और ह्युमन राइट समर्थक वहां विरोध प्रदर्शन करने की तैयारी में हैं. बता दें कि मोदी का ब्रिटेन दौरा 12 नवंबर को है. वहां पीएम मोदी ब्रिटिश संसद को संबोधित करेंगे और इसके अलावा लोगों को भी संबोधित करेंगे. 
 
‘आवाज नेटवर्क’ करेगा पीएम मोदी के खिलाफ मार्च
पीएम मोदी के दौरे के विरोध में आवाज नेटवर्क और कुछ अन्य संस्थाओं ने 3 दिन का प्रोटेस्ट प्लान किया है. इन सभी संस्थाओं ने 12 नवंबर की दोपहर को ब्रिटिश पीएमओ 10, डाउनिंग स्ट्रीट से पार्लियामेंट स्क्वॉयर तक मार्च करने का फैसला किया है. इसके बाद प्रदर्शनकारी हाउस ऑफ कॉमन के बाहर इकट्ठा होंगे.
 
क्यों कर रहे हैं विरोध ? 
आवाज नेटवर्क का आरोप है कि पीएम मोदी भारत की डेमोक्रेटिक और सेक्युलर छवि को अनदेखा कर रहे हैं. मोदी यहां आकर डिजिटल इंडिया, क्लीन इंडिया और विकसित और विकासशील भारत की बात करने वाले हैं जबकि सच्चाई यह है कि वहां साहित्यकारों पर हिंसा की जा रही है. आवाज नेटवर्क ने अपने ट्विटर पेज पर लिखा है कि पीएम मोदी धर्म और उसके प्रतीकों का गलत प्रयोग कर रहे हैं. यह पीएम मोदी के दोहरे मानदंडों को दिखाता है. 
 
क्या है आवाज नेटवर्क?
आवाज नेटवर्क एक ब्रिटिश बेस्ड एनजीओ नेटवर्क है. ट्विटर पेज पर उन्होंने लिखा है कि हम पूरे साउथ एशिया में धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र के लिए लड़ रहे हैं. हालांकि आवाज नेटवर्क के साथ कई छोटे-छोटे एनजीओ जुड़े हुए हैं. 
 
कौन-कौन विरोध प्रदर्शन में शामिल होगा ? 
आवाज नेटवर्क की तरफ से बुलाए गए इस प्रोटेस्ट में भी दलित सॉलीडेरिटी नेटवर्क, इंडियन मुस्लिम फेडरेशन, इंडियन वर्कर्स एसोसिएशन, मुस्लिम पार्लियामेंट, ऑक्सफोर्ड साउथ एशिया फोरम, साउथ एशिया सॉलिडिरिटी ग्रुप, साउथ हॉल ब्लैक सिस्टर्स, वॉयस ऑफ दलित इंटरनेशनन और वीमेन अगेंस्ट फंडामेंटलिज्म ग्रुप भी शामिल होंगे.
 
पीएम मोदी के स्वागत की भी हैं भव्य तैयारियां 
‘यूरोप इंडिया फोरम’ के ‘यूके वेलकम्स मोदी’ कैंपेन के तहत मोदी के स्वागत की तैयारियां शुरू हो गई हैं. लंदन के वेम्बले स्टेडियम में 13 नवंबर को होने वाले कार्यक्रम के लिए 70,000 से ज्यादा लोगों के पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है. यहां भी मेडिसन स्क्वायर की तरह भव्य समारोह होगा.