बाली. इंटरपोल ने घोषणा कर दी है कि माफिया डॉन छोटा राजन को आज रात भारत के लिए डिपोर्ट कर दिया जाएगा. हालांकि छोटा राजन की कस्टडी किसे मिलेगी इसे लेकर अभी संशय बना हुआ है. राजन ने आरोप लगाया है कि मुंबई पुलिस में दाउद के कुछ आदमी है जिनसे उसे खतरा है इसके बाद कहा जा रहा था कि राजन को दिल्ली पुलिस को भी सौंपा जा सकता है. 
 
CM फड़नवीस बोले राजन मुंबई आएगा
मुख्यमंत्री के मुताबिक राजन की सुरक्षा के लिए कड़े बंदोबस्त किए जा रहे हैं. संभावना जताई जा रही है कि छोटा राजन को मुंबई की आर्थर रोड जेल के अंडा सेल में रखा जाएगा. उसकी सुरक्षा के लिए सरकार सभी पहलुओं पर विचार कर रही है. इंडोनेशिया की बाली जेल में बंद छोटा राजन को भारत लाने की तैयारी पूरी हो चुकी है. सीबीआई, दिल्ली पुलिस और मुंबई पुलिस की एक संयुक्त पहले ही इंडोनेशिया पहुंच चुकी है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने बताया कि राजन बहुत जल्द भारत आ जाएगा.
 
 
राजन विरोध नहीं करेगा तो डिपोर्ट पक्का
बाली पुलिस के अधिकारी ने बताया कि अगर छोटा राजन के वकील ने उसके भारत डिपोर्ट का विरोध नहीं किया, तो मंगलवार की रात में ही उसे भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को सुपुर्द कर दिया जाएगा. लेकिन यदि वकील ने इसका विरोध किया, तो प्रक्रिया थोड़ी लंबी हो सकती है. फ्रांसिस्को प्रैस्सर नाम का एक वकील छोटा राजन का केस देख रहा है.
 
गौरतलब है कि छोटा राजन पर हत्या, स्मगलिंग, वसूली और ड्रग तस्करी के करीब 75 मामले दर्ज हैं. इनमें से चार मामले टाडा, एक मामला पोटा और 20 मामले मकोका कानून के तहत दर्ज हैं. 1976 में उस पर पहला केस दर्ज हुआ था. भारत में उस पर केस चलाने की तैयारी जोरों पर है. मुंबई क्राइम ब्रांच की टीम यह तय करने में लगी है कि किस मामले में उस पर पहले केस चलाया जाए, जिससे कि उसे कानून की गिरफ्त में मजबूती से जकड़ा जा सके.