नई दिल्ली. इंडोनेशिया में भारत के राजदूत गुरजीत सिंह ने इंडिया न्यूज़ के एडिटर इन चीफ दीपक चौरसिया से बातचीत में इसकी पुष्टि कर दी है कि छोटा राजन को भारत लाने के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. उधर छोटा राजन ने बाली पुलिस के हाथ भारत सरकार को चिट्ठी भेजी है जिसमें उसने खुद को जान का खतरा बताया है. 
 
क्या है चिट्ठी में 
राजन ने लिखा है कि ”बाली में सुरक्षा व्यवस्था ठीक नहीं है इसलिए उसकी जान को खतरा है.” राजन ने ये भी लिखा कि उससे सेहत का भी खयाल नहीं रखा जा रहा. किडनी के साथ हार्ट की समस्या भी हुई. राजन की मांग है कि उसे कॉन्सुलर एक्सेस दिया जाए.
 
खास बात ये है कि उसने चिट्ठी मोहन कुमार के नाम से लिखी है. ऐसी उम्मीद है कि जल्द ही छोटा राजन भारत को सौंप दिया जाएगा. इस बीच सरकार ने एक नोटिफिकेशन का हवाला देते हुए कहा है कि सिर्फ कोर्ट वारंट के आधार पर भी राजन को वापस लाया जा सकता है. प्रत्यर्पण संधि की जरूरत नहीं है. सरकार ने पिछले साल अगस्त में इंडोनेशिया के साथ एक करार किया था जिसके तहत किसी भी अपराधी को सिर्फ कोर्ट वारंट के आधार पर भारत को सौंपा जा सकता है.