लाहौर. पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने पाकिस्तानी चैनल दुनिया टीवी को दिए इंटरव्यू में आतंकवाद से जुड़ी वे सारी बातें कहीं हैं, जिनका दावा भारत हमेशा से करता आया है. मुशर्रफ ने इस इंटरव्यू में क़ुबूल किया है कि पाकिस्तान आतंकवादियों को पैसा और ट्रेनिंग देता है, जिससे वे जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ावा दें. मुशर्ऱफ ने यह भी कहा कि लश्कर-ए-तैयबा और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकवादी संगठन पाकिस्तान ने ही खड़े किए हैं.
 
ओसामा और हाफ़िज़ सईद को हमने ट्रेनिंग दी
मुशर्रफ ने कहा कि मुंबई हमलों के गुनाहगार हाफिज सईद को पाकिस्तान में हीरो की तरह सम्मान दिया जाता है. वहीं ओसामा बिन लादेन के बारे में मुशर्रफ ने कहा कि पूरी दुनिया और सोवियत संघ से लड़ने के लिए हमने मुजाहिदीन तैयार किए. तालिबान को तैयार किया. ओसामा को हमने ट्रेनिंग दी और पाकिस्तान में वह नायक का दर्जा रखता है. इस इंटरव्यू में मुशर्रफ ने धार्मिक आतंकवाद को पालने-पोसने की बात कबूली और कहा कि ये पाकिस्तान के लिए बहुत फायदेमंद साबित हुआ है.
 
अब पाकिस्तान ही विक्टिम बन गया है
मुशर्रफ ने कहा, 1990 के दशक में कश्मीर में आजादी का संघर्ष शुरू हुआ.. उस समय लश्कर-ए-तैयबा और 11 या 12 अन्य संगठन गठित हुए. हमने उनका समर्थन किया और उन्हें ट्रेनिंग दी, क्योंकि वे अपनी जिंदगी की कीमत पर कश्मीर में लड़ रहे थे लेकिन अब समय बदल गया है। अब ये लोग पाकिस्तान में ही हमले कर रहे हैं. अब हम खुद ही विक्टिम हो गए हैं.