नई दिल्ली. पाकिस्तान ने अफगानिस्तान में भारत के बढ़ते प्रभाव से मुकाबले के लिए तालिबान का इस्तेमाल किया. सीआईए निदेशक जॉन ब्रेनन के हैक हुए ई-मेल से विकीलीक्स के जारी दस्तावेजों के मुताबिक रिपोर्ट में नवंबर 2008 में बराक ओबामा के अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित होने के तीन दिन बाद ब्रेनन ने रणनीतिक दस्तावेज में लिखा कि पाक अफगान में भारत का मुकाबला करने के लिए तालिबान का इस्तेमाल करता है.
 
विकीलीक्स की ओर से जारी दस्तावेज में अफगान और पाक पर रिपोर्ट है और ईरान के प्रति अमेरिकी नीति का भी इसमें जिक्र किया है. 
 
अफगान से अमेरिकी सेना को हटाना 
ब्रेनन ने 2008 में सात नवंबर को लिखा, ‘अफगानिस्तान के प्रति अमेरिका की दीर्घावधि प्रतिबद्धताओं को लेकर चिंतित पाक की अमेरिका के वहां से हटने की स्थिति में भारतीय और ईरानी हितों को साधने के लिए तालिबान के साथ कामकाजी संबंध बनाने की दिलचस्पी बढ़ाएगी.’ बता दें कि ब्रेनन उस समय ओबामा के शीर्ष विदेश नीति और आतंक से मुकाबले संबंधी मामलों के सलाहकार थे. उस समय सीआईए निदेशक पद के लिए भी उनका नाम चल रहा था. हालांकि यह पद लियोन पेनेटा ने संभाला.