बर्लिन. यहूदियों के होलोकॉस्ट में फिलीस्तीन को लपेटने वाले इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने अगर जर्मन धरती पर नरसंहार में तानाशाह हिटलर या नाज़ियों की भूमिका को कम बताया होता तो वो जर्मन कानूनों के तहत गिरफ्तार कर लिए जाते.
 
जर्मनी के कानून के मुताबिक होलोकॉस्ट में हिटलर या नाजियों की भूमिका को नकारना या उसे कम बताना एक अपराध है जिसके लिए पांच साल तक की जेल हो सकती है.
 
होलोकॉस्ट पर क्या कहा था नेतन्याहू ने 
इजरायली प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने 20 अक्टूबर को येरुशलम में वर्ल्ड ज़ियोनिस्ट कॉंग्रेस में कहा था कि होलोकॉस्ट का विचार नाज़ियों ने इजाद नहीं किया था बल्कि एक फिलीस्तीनी नेता ने हिटलर को इसके लिए उकसाया था. एडोल्फ़ हिटलर यहूदियों को यूरोप से सिर्फ़ बाहर निकालना चाहते थे लेकिन येरुशलम के तत्कालीन ग्रैंड मुफ़्ती हज अमीन अल-हुसैनी ने हिटलर से कहा था कि अगर तुम उन्हें निकाल दोगे, तो वो यहां फिर आ जाएंगे तो हिटलर ने पूछा तो मैं क्या करूं? इस पर हुसैनी ने कहा कि ‘जला दो उन्हें’.
 
जर्मनी ने किया था कड़ा विरोध
जर्मनी ने नेतन्याहू के बयान को खारिज करते हुए कहा है कि इस जघन्य अपराध के लिए वास्तविक तौर पर जर्मनी अपनी ज़िम्मेदारी स्वीकार करता है. जर्मन चांसलर एंजेला मार्केल के प्रवक्ता ने कहा कि सभी जर्मन नाज़ी इतिहास की क्रूरता को जानते हैं जिसने सभ्यता के सभी मानकों को तोड़ दिया था. जर्मनी के स्कूलों में नाज़ी इतिहास के बारे में एक अच्छी सोच के साथ पढ़ाया जाता है ताकि जर्मनी में नाज़ियों के वक़्त जो कुछ भी हुआ उसे याद रखा जा सके.