वॉशिंगटन. अमेरिका में एक कॉलेज परिसर में गोलीबारी की एक और घटना के बाद दु:खी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सांसदों को जमकर फटकार लगाई है. एक ताकतवर बंदूक लॉबी के दबाव में आकर सांसदों ने कठोर बंदूक कानून पारित नहीं होने दिए हैं.  गोलीबारी की इस घटना में 15 लोग मारे गए जबकि 20 लोग घायल हो गए.
 
 
ओरेगॉन के रोजबर्ग स्थित उम्पका कम्युनिटी कॉलेज में गुरुवार को घटे इस नरसंहार के चंद घंटे बाद शोकाकुल ओबामा ने व्हाइट हाउस में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा, ‘मैं आशा करता हूं और प्रार्थना करता हूं कि अपने कार्यकाल में अब मुझे फिर इस तरह की घटनाओं में जान गंवाने वालों के परिजनों के प्रति सांत्वना और संवेदना प्रकट न करनी पड़े.’
 
अमेरिका में इस तरह के नरसंहार की घटनाओं को रोकने के लिए एक कठोर शस्त्र सुरक्षा कानून पास करवाने में नाकामी को ओबामा अपने कार्यकाल की एक बड़ी विफलता के रूप में देखते हैं, जबकि दूसरे कई देशों ने इस अधिनियम को पास कर दिया है. इस धरती पर केवल हमारे देश (अमेरिका) में ही मानसिक विकार वाले लोग नहीं हैं. इस धरती पर हमारा ही एकमात्र ऐसा विकसित देश है, जहां हर चंद महीनों में इस तरह की नरसंहार की घटनाएं घटती हैं.