वाशिंगटन. लगभग पांच दशक बाद कूटनीतिक संबंध बहाल करने पर सहमत हुए अमेरिका और क्यूबा को एक-दूसरे के यहां दूतावास खोलने की जल्दी नहीं है. वे 10-11 अप्रैल को पनामा में होने वाले अमेरिकी देशों के क्षेत्रीय शिखर सम्मेलन से पहले ऐसा नहीं करेंगे. अमेरिका ने 1961 में क्यूबा से संबंध तोड़ लिए थे और उस पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए थे.

जब मामला दो ऐसे देशों का हो, जिनके बीच पिछले 50 से अधिक वर्षो से बातचीत तक नहीं हुई हो और आप दूतावास खोलना चाहते हैं तो आपके पास ऐसे कई मुद्दे होते हैं, जिन पर आपको काम करने की जरूरत होती है: रोड्स

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के सहयोगी बेन रोड्स ने मंगलवार को कहा, “मुझे नहीं लगता कि शिखर सम्मेलन से पहले हम औपचारिक तौर पर दूतावास खोलेंगे. जब मामला दो ऐसे देशों का हो, जिनके बीच पिछले 50 से अधिक वर्षो से बातचीत तक नहीं हुई हो और आप दूतावास खोलना चाहते हैं तो आपके पास ऐसे कई मुद्दे होते हैं, जिन पर आपको काम करने की जरूरत होती है.”

ओबामा प्रशासन ने पिछले साल दिसंबर में क्यूबा के साथ संबंध सामान्य बनाने और कूटनीतिक संबंध बहाल करने की बात कही थी, जो पिछले पांच दशक से भी अधिक समय में अमेरिका तथा क्यूबा के संबंधों को सामान्य करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम था.

कूटनीतिक संबंध बहाल करने और दूतावास फिर से खोलने के मुद्दे पर दोनों देशों की तीन दौर की वार्ता हो चुकी है. इससे पहले फरवरी में अमेरिका के पश्चिमी गोलार्ध के सहायक मंत्री रॉबर्ट जैकबसन ने कहा था कि अमेरिकी देशों के शिखर सम्मेलन से पहले दोनों देश एक-दूसरे के यहां दूतावास खोल सकते हैं.