वाशिंगटन. अमेरिका में ओरेगॉन राज्य में उम्पक्वा कम्युनिटी कॉलेज में हुई गोलीबारी में 15 लोग मारे गए जबकि 20 लोग घायल हो गए.

ये कॉलेज रोज़बर्ग, ओरेगॉन में स्थित है जो पोर्टलैंड के दक्षिण में एक ग्रामीण इलाका है. कम से कम तीन हज़ार छात्रों वाले इस कॉलेज में गोलीबारी करने वाला बीस वर्षीय युवक पुलिस की गोली से मारा गया. गोलीबारी के पीछे हमलावर का इरादा क्या था, इसका पता तो नहीं चल सका है, लेकिन पुलिस का कहना है कि वे उन ख़बरों की जाँच कर रहे हैं जिसमें हमलावर ने सोशल मीडिया पर अपने इरादों के बारे में चेतावनी दी थी.

कॉलेज के एक छात्र की मां मर्लिन किटलमान ने सीएनएन को बताया कि उनके बेटे ने गोलियों के चलने की आवाज़ तक नहीं सुनी. इसका मतलब है कि बंदूक में साइलेंसर का इस्तेमाल किया गया था.

शस्त्र क़ानून कड़ा हो- ओबामा

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने शस्त्र क़ानून को कड़ा करने की मांग करते हुए कहा है कि प्रार्थना अब काफी नहीं है. इस तरह की घटनाएं अब नियमित हो गई हैं. उन्होंने कहा ‘धरती पर हम इकलौते देश नहीं हैं जहां दिमाग़ी रूप से बीमार लोग हैं और दूसरे लोगों को नुक़सान पहुंचाना चाहते हैं लेकिन हम धरती में इकलौते विकसित देश हैं, जहां तक़रीबन हर महीने गोलीबारी की घटनाएं होती हैं’.