वाशिंगटन. अमेरिका में किसी मुसलमान के राष्ट्रपति बनने के मुद्दे पर बहस जारी है. इसी मुद्दे पर भारतीय मूल के लुसिआना बॉबी जिंदल ने सोमवार के दिन रिपब्लिकन नेता बेन कार्सन से अलग यह राय रखी कि मुसलमान राष्ट्रपति को बाइबल पर हाथ रख कर संविधान की सर्वोच्चता बनाए रखने की क़सम खानी चाहिए.
 
इससे पहले इसी मुद्दे पर राष्ट्रपति पद की रेस में उतरे कार्सन अपने इस बयान के कारण विवादों में घिरे हैं कि किसी मुसलमान को अमरीका का राष्ट्रपति नहीं होना चाहिए. तब लुसिआना के गवर्नर जिंदल ने कहा, ‘जो मुसलमान रिपब्लिकन धार्मिक स्वतंत्रता के लिए लड़ा हो, अमरीका की धार्मिक विरासत का सम्मान करता हो, इस्लामिक स्टेट और कट्टरपंथी इस्लाम को ख़त्म करने के लिए प्रतिबद्ध हो और महिलाओं को दोयम दर्जे का नागरिक मानने वाली संस्कृतियों की निंदा करता हो, मेरा वोट उसे मिलेगा. उन्हें बाइबल पर हाथ रख कर संविधान की सर्वोच्चता बनाए रखने की क़सम खानी होगी.’