कराची. पाकिस्तान के पूर्व पीएम यूसुफ़ रज़ा गिलानी के खिलाफ कराची की भ्रष्टाचार निरोधक अदालत ने 7 अरब के घोटाले में गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया है. गिलानी के अलावा उनकी सरकार में व्यापार मंत्री रहे मखदूम अमीन फहीम समेत कई अधिकारियों के खिलाफ गैर जमानती वारंटी जारी हुआ है.

कोर्ट ने पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के नेता गिलानी और फहीम समेत बाकी वारंटियों को गिरफ्तार करके 10 सितंबर को पेश करने कहा है. पाकिस्तानी मीडिया में खबर है कि दोनों नेता इस संकट से उबरने के लिए वरिष्ठ वकीलों से कानूनी सलाह ले रहे हैं.

गिलानी 10 सितंबर का इंतजार नहीं करेंगे, 31 अगस्त को ही कोर्ट में पेश होंगे

कोर्ट के आदेश पर फौरी प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व पीएम गिलानी ने कहा है कि वो 10 सितंबर का इंतजार नहीं करेंगे और 31 अगस्त को ही कोर्ट में पेश होंगे. उन्होंने कहा कि कुछ महीने पहले भी कोर्ट ने मेरे खिलाफ वारंट जारी किया था लेकिन पेश होने पर बिना जमानत के ही रिहा कर दिया.

कुछ महीने पहले भी कोर्ट ने मेरे खिलाफ वारंट जारी किया था लेकिन पेश होने पर बिना जमानत के ही रिहा कर दिया- यूसुफ़ रज़ा गिलानी, पूर्व प्रधानमंत्री, पाकिस्तान

कोर्ट ने पाकिस्तान व्यापार विकास प्राधिकार में 7 अरब के घपलों को लेकर दर्ज 12 मामलों में फेडरल जांच एजेंसी एफआईए की तरफ से चार्जशीट दाखिल करने के बाद ये वारंट जारी किया है. गिलानी और फहीम 50 करोड़ के घपलों से जुड़े ऐसे ही 12 और मामलों में इस वक्त जमानत पर हैं.

पाकिस्तान सरकार ने 22 अगस्त को ही पूर्व प्रधानमंत्री गिलानी और पूर्व व्यापार मंत्री फहीम को गिरफ्तार करने की एफआईए की अर्जी को हरी झंडी दे दी थी. एक दिन पहले ही गिलानी की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के सह-प्रमुख आसिफ अली ज़रदारी के खास सहयोगी असिम हुसैन को गिरफ्तार किया गया है.