नई दिल्ली. पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI के पूर्व प्रमुख लेफ्निटनेंट जनरल हामिद गुल की मौत हो गई है. हामिल गुल की मौत ब्रेन हेमरेज की वजह से हुई है. 79 वर्षीय गुल को ब्रेन हेमरेज के बाद मरी के मिलिट्री अस्पताल में भर्ती किया गया था. पाकिस्तानी अखबार डॉन के मुताबिक अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर्स ने हामिद को मृत घोषित कर दिया.
  
हामिल गुल 1987 से 1989 ISI चीफ रहे. 1980 के दशक में अफ़ग़ानिस्तान से सोवियत सेना की वापसी के समय आईएसआई की कमान जनरल हमीद गुल के हाथों में थी. अफगान युद्ध के समय भी गुल लगातार पाक की खुफिया एजेंसी में सक्रिय थे. 1992 में वह ISI से रिटायर हुए. हामिद गुल भारत और अमेरिका के कड़े आलोचक थे. उन्हें भारत का धुर विरोधी माना जाता था. उन्हें कट्टर इस्लामी विचारों के लिए भी जाना जाता था.  अपनी सोच और विचारों को लेकर हमीद गुल हमेशा विवादों में रहे.
 
हामिद की मौत के बाद सोशल मीडिया पर पाकिस्तानी नेता इमरान खान समेत कई आम लोगों और पाकिस्तानी मीडिया ने उन्हें श्रद्धांजलि दी. इसके अलावा पाकिस्तानी सेना के करीबी कई इस्लामिक विचारधारा के नेता भी उन्हें श्रद्धांजलि देने वालों में शामिल रहे.
 
विवादित इंटरव्यू से जाना दुनिया ने 
2010 में बीबीसी को दिए इंटरव्यू में गुल ने कहा था, ”अमेरिका इतिहास है, करज़ई (अफगानिस्तान) इतिहास है, तालिबान भविष्य है. ” पाकिस्तान में जनरल गुल के संरक्षक माने जाने वाले जनरल जिया-उल-हक की 1988 में एक प्लेन क्रैश में रहस्यमयी हालात में मौत हो गई थी. इसके बाद पाकिस्तान में 11 सालों में पार्टी आधारित चुनावों का रास्ता साफ हुआ. पाकिस्तान के खुफिया प्रमुख होने के नाते जनरल गुल ने इन चुनावों को कराने और प्रभावित करने में बड़ी भूमिका अदा की थी.
 
गपल पर 1988 के चुनावों में कट्टरपंथ इस्लामिक गठबंधन को बढ़ावा देने और बेनज़ीर भट्टो को सत्ता में आने से रोकने के भी आरोप लगे. हमीद गुल को अफगानिस्तान में जिहाद और भारत प्रशासित कश्मीर में प्रतिरोध का बड़ा समर्थक और सहायक माना जाता था. गुल को अक्सर कट्टरपंथी इस्लामिक रैलियों में पाकिस्तानी सेना के करीबी चरमपंथी नेताओं के साथ देखा गया.  हमीद गुल तालिबान के खुले समर्थक थे.
 
आपको बता दें 1989-90 में जब कश्मीर में हमले और हिंसा शुरु हुई,  इसमें भी हमीद गुल की बड़ी भूमिका थी. हामिद पर विकीलीक्स की तरफ से जारी किए गए दस्तावेजों में उन पर तालिबानी मदद का आरोप लगाया था. लेकिन गुल ने इन सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था.
एजेंसी