इस्लामाबाद: आतंकवाद को लेकर पाकिस्तानी विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ का बड़ा कबूलनामा सामने आया है. ख्वाजा आसिफ ने माना है कि आतंकी सगंठन जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद और लश्कर-ए-तैयबा पाकिस्तान के लिए अब सिरदर्द बन गए हैं. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि आतंकवाद को खत्म करने में अभी वक्त लगेगा.
 
न्यूयॉर्क में एशिया सोसायटी में सवाल-जवाब के दौरान एक सवाल के जवाब में पाक विदेश मंत्री ने कहा हाफिज और उसके संगठन से छुटकारा पाने के लिए थोड़ा समय चाहिए होगा. साथ में उन्होंने अमेरिका पर निशाना भी साधा. ख्वाजा आसिफ ने कहा कि आतंकी संगठन लश्कर के बनने में या बनाने में केवल पाकिस्तान ही जिम्मेदार नहीं है, बल्कि 20 साल पहले अमेरिका ने भी इस संगठन को बनाने में मदद की थी. 
 
 
ख्वाजा आसिफ ने कहा कि हाफिज सईद को लेकर भी हमे जिम्मेदार न समझें, ये 20 साल पहले तक अमेरिका के लिए दुल्हन बने हुए थे. व्हाइट हाउस में इन लोगों को खाना-पीना होता था. अब आप लोगों का काम निकल गया तो कह दिया पाकिस्तान में जाओ. हालांकि पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने अपने संबोधन में यह भी कहा कि उनका देश अफगानिस्तान में आतंक के खिलाफ कार्रवाई में अमेरिका के साथ काम के लिए तैयार है.
 
 
पाकिस्तान पर भारत और अमेरिका के बढ़ते दवाब के कारण 30 जनवरी को पाकिस्तान सरकार ने लाहौर हाई कोर्ट में माना था कि हाफिज सईद और उनके चार अन्य सहयोगी आतंकी है. हाफिज सईद आतंकी गतिविधियों से जुड़ा है. जिसके बाद से इन सभी को नजरबंद कर दिया गया था.
 
 
बता दें कि हाफिज सईद मुंबई हमले का मास्टरमाइंड है और उसे 2008 में मुंबई आतंकी हमले के बाद भी हाउस अरेस्ट में रखा गया था. मुंबई हमलों में 166 भारतीय और विदेशियों की मौत हुई थी. 2009 में एक कोर्ट के आदेश के बाद वह छूटा था. खास बात ये है कि आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने के कारण उस पर एक करोड़ डॉलर का इनाम भी रखा है.
 
 
बता दें कि 26 सितंबर को भारत आए अमेरिकी रक्षा मंत्री ने भी जेम्स मैटिस ने कहा कि आतंक को पनाह देने वालों को किसी भी हाल में बख्‍शा नहीं जाएगा. भारत और यूएस साथ मिलकर आतंकवाद के खात्मे पर काम कर रहे हैं. मैटिस ने कहा कि दोनों देश समझते हैं कि दुनियाभर में आतंकवाद तेजी से फैल रहा है. जेम्स ने भारत द्वारा अफगानिस्तान को दी जा रही मदद की तारीफ भी की.