काठमांडू.  भारी बारिश के कारण नेपाल के कई जिलों में बाढ़ और भूस्खलन से कम से कम 36 लोगों की मौत  हो गई है. जबकि 12 लोग अभी भी लापता बताए जा रहे हैं. नेपाल का मोरांग, संसारी, सिराहा, सपत्तारी, रौताहट, बांके, बरदिया, झापा और दांग जिले बाढ़ से सबसे ज्याद प्रभावित हैं.
 
स्थिति ये हो गई है कि बारिश और बाढ़ का पानी लोगों के खरों में भर गया है. यहां तक एयर पोर्ट में पानी भर जाने के कारण बिराटनगर एयरपोर्ट को बंद कर दिया गया है. बाढ़ और भूस्खलन की घटना से बचने के लिए सैकड़ों परिवार घर छोड़कर दूसरे जगह शरण लिए हैं. 
 
नेपाल मंत्रिमंडल की आपात बैठक
गृह मंत्रालय के मुताबिक बाढ़ और भूस्खलन की घटना के बाद नेपाल मंत्रिमंडल की आपात बैठक बुलाई गई जिसमें प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउवा ने राहत व बचाव कार्य तेज करने के आदेश दिए हैं. लगातार बारिश से आई बाढ़ ने निचले तराई इलाके में तबाही मचा दी है. 
 
 
 
देश की कई नदियों में पानी का स्तर खतरे के निशान को पार कर गई है. खासकर स्पतकोशी, कनकाई, राप्ती और मोहना जैसी प्रमुख नदियां उफान पर हैं. मौसम विभाग ने भी प्रमुख नदियों के पास के क्षेत्रों में अगले 24 घंटों तक के लिए हाई अलर्ट जारी कर दिया है.