इस्लामाबाद: पाकिस्तान के नए विदेश मंत्री ख्वाजा मोहम्मद आसिफ की तरफ से एक बड़ा बयान आया है. जिसमे वह कह रहे है कि पाकिस्तान तो हमेशा से ही भारत से अच्छे रिश्ते चाहता है लेकिन भारत की तरफ से हमे कभी कोई सही संकेत नहीं मिलता. आसिफ ने रविवार को एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान भारत को हिदायत देते हुए कहा है कि यह वक्त आरोप लगाने का नहीं बल्कि आपसी रिश्ते अच्छे बनाने का है. कांफ्रेंस के दौरान आसिफ ने बाकी पाकिस्तानी हुक्मरानों की तरह दोबारा कश्मीर का राग आलापा.

उन्होंने कश्मीर के लोगों के प्रति अपनी संवेदना वयक्त करते हुए कहा कि कश्मीरी अपने हक की लडाई लड रहे हैं, वह चाहते हैं की ‘आत्मनिर्णय का अधिकार’ उनके लिए भी बराबर होना चाहिए जिसके लिए उन्हे यूनाइटेड नेशन ने अश्वस्त किया था. इसी दौरान उन्होंने अपने बॉर्डर की रक्षा के मुद्दे पर भी बात की. आसिफ ने कहा कि उनकी इच्छा शांति से कश्मीर के मुद्दा को सुलझाने की है. उन्होंने आतंगवाद पर बयान देते हुए कहा कि आतंगवाद के खिलाफ लड़ाई तेज़ कर दी गई है. आपको बता दे की पाकिस्तान की तरफ से आतंकवाद पर ऐसा बयान तब आया जब अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार (NSA) जनरल एचआर मैकमास्टर ने पाकिस्तान को ट्रंप की ओर से आतंकवाद पर कड़ा सन्देश पहुंचाया था जिसमे ट्रंप ने उन्हें तालिबान, हक्कानी नेटवर्क जैसी आतंकी संस्थाओं को मदद पहुंचने वाली ‘दोगली नीति’ को बदलने को कहा था.

ये भी पढ़ें- अब पाकिस्तान की राजनीति में आतंक फैलाने की तैयारी में हाफिज सईद, बनाई नई पार्टी

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान को ट्रंप का सीधा सन्देश- आतंक पर ‘दोगली नीति’ बर्दाश्त नहीं