इस्लामाबाद : पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने कुलभूषण जाधव की तुलना आतंकी अजमल कसाब से की है. मुशर्रफ ने कहा कि कुलभूषण कसाब से भी बड़ा आतंकी है. मुशर्रफ ने कहा है कि भारतीय इस मामले को कसाब जैसा ही समझे. परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि कुलभूषण जाधव को मिलिट्री कोर्ट ने सजा सुनाई है और पाकिस्तान में जासूसी के आरोपों को लेकर यही कानून है. 
 
मुशर्रफ ने पाकिस्तानी न्यूज चैनल एआरवाई को बताया कि मुंबई हमलों में शामिल 10 आतंकियों में से एक कसाब बस सिर्फ एक प्यादा था, जबकि जाधव एक जासूस है, जो कई लोगों की जान जाने की वजह है. मुशर्रफ ने कहा कि अपनी जासूसी गतिविधियों से जाधव कई लोगों की मौत का कारण बना है.
 
मुशर्रफ ने कहा कि देश को जाधव के मामले में इंटरनेशनल कोर्ट जाना ही नहीं चाहिए था, क्योंकि ये मुद्दा राष्ट्रीय सुरक्षा का है. उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा से कोई खिलवाड़ नहीं किया जा सकता.
 
बता दें कि पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद भारत ने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था. हरीश साल्वे की अगुवाई में भारत की ओर से दाखिल याचिका की सुनवाई के दौरान पाकिस्तान को बुरी तरह से हार मिली थी. जिसमें अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने पाकिस्तान द्वारा जाधव को फांसी देने के फैसले पर स्टे ऑर्डर दे दिया था. अब पाकिस्तान इसी फैसले पर अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय से पुनर्विचार की मांग कर रहा है.