इस्लामाबाद: पाकिस्तान के गृह मंत्रालय ने लाहौर हाईकोर्ट में हलफनामा दायर कर यह माना है कि हाफिज सईद आतंकी गतिविधियों से जुड़ा रहा है. हाफिज ने याचिका दायर कर कहा था उसे गैर कानूनी ढंग से हिरासत में रखा जा रहा है. इसी के जवाब में पाक गृह मंत्रालय ने माना कि हाफिज आतंकी गतिविधियों में शामिल है. अपने पत्र में मंत्रालय ने कहा कि सईद को को एंटी टेररेज़म एक्ट के तहत हिरासत में रखा गया है.
 
ये भी पढ़ें:
 
पाक गृह मंत्रालय ने कहा कि सईद को एंटी टेररिज्म एक्ट के तहत हिरासत में रखा गया है. हाफिज पर पाकिस्तान में भी शांति को अस्थिर करने का आरोप है. हाफिज के पास इस पर भरोसा करने के कारण हैं कि जेयूडी आतंकी गतिविधियों में शामिल रही है. कोर्ट में दिए इस पत्र को पाकिस्तान के स्वीकारनामे के तौर पर भी देखा जा रहा है. जिसमें पाक हाफिज के आतंकी होने की बात स्वीकार कर रहा है.
 
ये भी पढ़ें:
 
नवाज सरकार ने पाकिस्तान में हुए धमाकों के बाद 30 जनवरी को सईद समेत जेयूडी और एफआईएफ के पांच नेताओं को एंटी टेरिरिज्‍म एक्ट के गिरफ्तार किया गया था. साथ ही उसके देश छोड़कर जाने पर भी रोक लगी हुई है. सईद पर यूएस ने आतंकी गतिविधियों में शमिल रहने के लिए 10 मिलियन डॉलर (64 करोड़ रुपए) का इनाम भी रखा है.
 
ये भी पढ़ें:
 
पाकिस्तान ने हाफिज सईद को ATA की चौथी अनुसूची में डाल है. इस लिस्ट में उसके करीबी सहयोगी काजी काशिफ का नाम भी शामिल है. इसके अलावा इस लिस्ट में अब्दुल्ला ओबैद, जफर इकबाल, अब्दुर रहमान आबिद के नाम भी शामिल किए गए हैं. पाकिस्तान ने यह कदम पड़ोसी भारत, अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र के सालों के दबाव के बाद उठाया था.