इस्लामाबाद: पाकिस्तान में बुर्का पहनी तीन महिलाओं ने एक शख्स की बेरहमी से हत्या कर दी. इस शख्स का कसूर सिर्फ इतना था कि  दस साल पहले उसपर ईश-निंदा का आरोप लगा था और वो अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए ही पाकिस्तान लौटा था और बेल पर बाहर था. पाकिस्तान में एक हफ्ते के भीतर ईश-निंदा के आरोप में हत्या की ये दूसरी घटना है.
 
पाकिस्तान में अल्पसंख्यक शिया समुदाय के नेता फैजल अब्बास के सियालकोट स्थित घर में तीन महिलाएं जबरन घुसी और उनसे कुछ धार्मिक कार्य करने के कहा, इसी बीच तीन में से एक महिला ने फैजल की छाती में गोली मार दी. 
 
फैजल के रिश्तेदार अब्बास के मुताबिक फैजल डैनमार्क से पाकिस्तान सिर्फ अपनी बेगुनाही साबित करने ही आया था और स्थानीय जज ने उसे बेल पर रिहा भी कर दिया था. 
 
गौरतलब है कि पाकिस्तान में ईश-निंदा बहुत बड़ा अपराध है जहां ईश-निंदा के आरोप में 1990 से लेकर अबतक करीब 66 लोगों मौत के घाट उतारा जा चुका है. पाकिस्तान में ईश-निंदा के आरोप में आर्थिक मुआवजे से लेकर फांसी की सजा तक का प्रावधान है.