शंघाई. चान-होम तूफान की चपेट में आए चीन के झेजियांग और झियांगसु प्रांत में 11 लाख लोग अपने घर छोड़ने के लिए मजबूर हो गए हैं. कई हिस्सों में हवाई, रेल और दूसरी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज ठप पड़ गई हैं. यह 1949 के बाद का सबसे भयानक तूफान है. 81640 हेक्टेयर खेती की जमीन तबाह हो चुकी है. 

झेजियांग प्रांत के प्रशासन ने बताया कि तूफान के कारण सरकार को 410 मिलियन डॉलर (लगभग 2590 करोड़ रुपए) का नुकसान हुआ है. बता दें कि चान-होम तूफान शनिवार को चीन के शंघाई में दक्षिणी समुद्री तट से टकराया था. इस दौरान 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं. हालांकि, यह तूफान रविवार को थोड़ा कमजोर पड़ा, जिसके बाद मौसम विभाग ने अलर्ट का लेवल रेड से घटाकर ऑरेंज कर दिया.

ब्रिटेन में भीषण तूफान, 16 घंटे में 19 हजार से ज्यादा बिजलियां गिरीं
जेझियांग प्रांत के कई शहरों में बिजली गुल हो गई है. 100 से ज्यादा ट्रेनें अपनी जगह पर खड़ी हो गई हैं. मछली पकड़ने वाली 50 हजार नावों को वापस बुला लिया गया है. झेजियांग प्रांत के वेनलिंग शहर स्थित समुद्र तट पर विशाल लहरें उठ रही हैं. तूफान के चलते शंघाई, झियांगसु तथा झेलियांग प्रांतों में भारी बारिश हो रही है. कुछ इलाकों में 30 सेमी तक बारिश हुई है. शंघाई के पुडोंग अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से पांच सौ उडानें रद्द की जा चुकी हैं. होंगिया हवाई अड्डे से भी दौ सौ उड़ानें रद्द की गई हैं.
जापान और ताइवान भी हुए प्रभावित 
तूफान से जापान के ओकिनावा द्वीप श्रृंखला और ताईवान भी प्रभावित हुए हैं. शुक्रवार को तूफान की वजह से ताइवान की राजधानी ताइपे में स्टॉक मार्केट और सरकारी ऑफिस बंद करने पड़े थे.

एजेंसी