वाशिंगटन. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ के बीच रूस में बैठक का स्वागत करते हुए अमेरिका ने कहा है कि दक्षिण एशिया के दो पड़ोसी देशों के बीच तनाव किसी के हित में नहीं है. विदेश विभाग के प्रवक्ता जान किर्बी ने अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, हम भारतीय और पाकिस्तानी नेताओं के बीच इस सम्मेलन से इतर आसन्न बैठक का स्वागत करते हैं. किर्बी से उफा में मोदी-शरीफ की बैठक के बारे में पूछा गया था.

किर्बी ने कहा, हम ऐसे किसी कदम का स्वागत करते हैं, जो दोनों देश तनाव कम करने के लिए उठा सकते हैं. यह हमारा दीर्घकालीन रुख रहा है. अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा, हम यह देखना चाहते हैं कि तनाव कम हो और हम यह भी देखना चाहते हैं कि दोनों देश इन मुद्दों को द्विपक्षीय तरीके से सुलझा लें. अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि तनाव का बढ़ना किसी के हित में नहीं है और तनाव बढ़ने से क्षेत्र में कई तरह से अस्थिरता बढ़ेगी.

एक सवाल के जवाब में किर्बी ने कहा कि दोनों नेता शांति चाहते हैं और निश्चित तौर पर अमेरिका भी यही चाहता है. उन्होंने कहा कि उस क्षेत्र में काफी संख्या में बच्चे हैं और जिनके बारे में सभी लोग निश्चित तौर पर अच्छे भविष्य की कामना करते होंगे. प्रवक्ता ने कहा, मैं समझता हूं कि दोनों देशों के नेता इसी दिशा में आगे बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन इन मुद्दों को हम चाहते हैं कि वे द्विपक्षीय रूप से सुलझाएं.