नई दिल्ली : एक रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि पाकिस्तान का शहर कराची भारत विरोधी जेहादी गुटों का अड्डा बन गया है. इस शहर में भारत विरोधी जेहादी गतिविधियों की साजिश रची जाती है. पाकिस्तान आतंकियों के पालने-पोसने का कारखाना बन चुका है. यह बात किसी से छुपी नहीं है. 
 
दुनिया के नामचीन थिंक टैंक्स में शुमार इंटरनेशनल क्राइसिस ग्रुप (ICG) की रिपोर्ट में यह बात कही गई है. ब्रसेल्स के थिंक टैंक का दावा है कि पाकिस्तान का कराची टेररिस्ट्स एक्टिविटीज का गढ़ बन चुका है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि यहां आतंकवादियों को पाकिस्तानी आर्मी का सपोर्ट भी मिलता है.
 
 
रिपोर्ट में कहा गया है कि लश्कर ए तैयबा, मसूद अजहर के जैश-ए-मोहम्मद और शिया-विरोधी चरमपंथी संगठन लश्कर-ए-झांगवी के कराची के मदरसों से करीबी रिश्ते हैं. इन मदरसों की फंडिग देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी होती है.
 
 
रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान के आतंकी संगठन कराची शहर के संसाधनों का इस्तेमाल करते हैं. जब भी भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर को लेकर तनाव होता है तब इस संगठन के सदस्य कराची में जमा हो जाते हैं.