नई दिल्ली : पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने संयुक्त राष्ट्र में फिर से कश्मीर राग अलापा है लेकिन यूएन की तरफ से इसका कोई जवाब नहीं मिला है. बता दें कि इससे पहले भी कई बार पाकिस्तान यूएन में कश्मीर का मुद्दा उठा चुका है.
 
 
प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा है कि नवाज शरीफ ने वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम में संयुक्त राष्ट्र महासचिव से मिलकर कहा कि उसे कश्मीर के मुद्दे पर ध्यान देना चाहिए.
 
वहां मौजूद लोगों ने नवाज शरीफ की बात को नजरअंदाज कर दिया. नवाज ने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंजोनियो गुटरेस के साथ एक बैठक के दौरान यह बात कही लेकिन उनकी इस मांग को कोई तवज्जो नहीं दी गई.
 
शरीफ ने भारत पर आरोप लगाया कि वह माहौल बिगाड़ रहा है. शरीफ ने यूएन महासचिव से कहा कि जम्मू-कश्मीर सहित सभी मुद्दों को सुलझाने के लिए स्थायी वार्ता की जरुरत है. 
 
उन्होंने यूएन महासचिव के सामने सिंधु जल समझौते का मुद्दा भी उठाया. शरीफ ने कहा कि उन्होंने कश्मीर विवाद के हल के लिए चर्चा के लिए भारत को आमंत्रित किया है लेकिन भारत ने कोई सकारात्मक जवाब नहीं दिया है. शरीफ ने भारत पर माहौल बिगाड़ने का झूठा आरोप भी लगाया.
 
 
बता दें कि गुरुवार को पाकिस्तान के पूर्व सेनाध्यक्ष राहिल शरीफ ने भी कश्मीर मुद्दे पर टिप्पणी की थी. उन्होंने कश्मीर को भारत और पाकिस्तान के बंटवारे का अधूरा एजेंडा बताया था. उन्होंने कहा था कि इस विवाद के समाधान के बिना इस क्षेत्र में शांति नहीं आ सकती.
 
राहिल ने यह बात विश्व आर्थिक मंच से इतर पाकिस्तान ब्रेकफास्ट सत्र में कही थी. उन्होंने कहा था कि आगे बढ़ने का जवाब सिर्फ तीन शब्द है कश्मीर, कश्मीर और कश्मीर.