इस्लामाबाद. पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल राहील शरीफ ने भारत पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए उस पर संघर्ष विराम के उल्लंघन के जरिए ‘अस्थिरता पैदा करने’ और पाकिस्तान के विभिन्न इलाकों में उग्रवाद का समर्थन करने का आरोप लगाया. राहील शरीफ ने भारत का नाम लिए बगैर कहा, ‘पूरी दुनिया हमारी सुरक्षा चिंताओं का समर्थन करती है. संघर्ष विराम का उल्लंघन, बलूचिस्तान, संघीय प्रशासित कबायली क्षेत्र और कराची में खून-खराबा दुश्मन के शत्रुतापूर्ण इरादे को बताता है.’

राहिल ने नौसेना अकादमी की पासिंग आउट परेड के मौके पर अपने संबोधन में कहा, ‘पाकिस्तान ने दूसरे देशों के साथ सहयोग की इच्छा दिखाई, लेकिन यह राष्ट्रीय हितों, संप्रभु अधिकारों और राष्ट्रीय गौरव कीमत पर नहीं है.’ पाकिस्तानी सेना प्रमुख की यह टिप्पणी उनके उस बयान के तीन दिनों बाद आई है जिसमें उन्होंने कहा था, ‘किसी को भी पाकिस्तान पर बुरी निगाह डालने की हिमाकत नहीं करनी चाहिए.’

सेना की ओर से जारी बयान के मुताबिक जनरल राहील शरीफ ने कहा, ‘पाकिस्तान अपनी सरजमीं की रक्षा, हितों की सुरक्षा के लिए कोई भी कीमत चुकाने को तैयार है. चाहे वह कश्मीर हो, नए बंदरगाहों का विकास हो या फिर प्राकृतिक संसाधनों की खोज हो.’ उन्होंने कहा कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा इस क्षेत्र के लोगों की जिंदगी बदलने की कुव्वत रखता है.

IANS