Hindi world Chinese state media, Make in India, Chinese goods boycott, global times, pakistan, India, Goa, Chinese Newspaper, China, brics, India News, Chinese Product, diwali, festive, indian products, चीनी सरकारी मीडिया, मेक इन इंडिया, चीनी उत्पादों का बहिष्कार, ग्लोबल टाइम्स http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/Chinese-Media-said-India-Can-Only-Bark-Their-Products-Can-not-Compete.jpg

चाइनीज माल के बॉयकॉट पर बोला चीनी मीडिया, भारत सिर्फ 'भौंकता' है, मुकाबला नहीं कर सकता

चाइनीज माल के बॉयकॉट पर बोला चीनी मीडिया, भारत सिर्फ 'भौंकता' है, मुकाबला नहीं कर सकता

| Updated: Wednesday, October 19, 2016 - 19:39
Chinese state media, make in India, Chinese goods boycott, Global Times, Pakistan, India,Goa,  Chinese newspaper, China, Brics, make in India, india news, chinese product, diwali, festive, indian products, चीनी सरकारी मीडिया, मेक इन इंडिया, चीनी उत्पादों का बहिष्कार, ग्लोबल टाइम्स

Chinese Media said India Can Only Bark Their Products Can not Compete

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
चाइनीज माल के बॉयकॉट पर बोला चीनी मीडिया, भारत सिर्फ 'भौंकता' है, मुकाबला नहीं कर सकताChinese Media said India Can Only Bark Their Products Can not CompeteWednesday, October 19, 2016 - 19:39+05:30
बीजिंग. भारत में सोशल मीडिया पर चीनी सामान के बहिष्कार की अपील पर चीन के सरकारी मीडिया ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. चीनी मीडिया ने बुधवार को कहा कि भारतीय प्रॉडक्ट किसी भी मामले में चीनी प्रॉडक्ट्स का मुकाबला कर ही नहीं सकते. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में लिखा है कि भारत सिर्फ 'भौंक' सकता है और दोनों देशों के लगातार बढ़ते व्यापार घाटे पर कुछ नहीं कर सकता.
 
ग्लोबल टाइम्स में लिखा है कि चीन ने पाकिस्तान में बसे आतंकियों को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करवाने की भारत की कोशिशों का लगातार विरोध किया है. इससे भारतीय काफी गुस्से में हैं और उन्होंने ही चीन के प्रॉडक्ट्स के बहिष्कार की अपील की है. इस लेख में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'मेक इन इंडिया' प्रॉजेक्ट को भी 'अव्यावहारिक' बताया है.
 
 
ग्लोबल टाइम्स ने चीनी कंपनियों को चेताया है कि वे भारत में बिल्कुल निवेश न करें, क्योंकि इस तरह के देश में पैसा लगाना 'आत्महत्या' करना जैसा होगा, पहला यहां भ्रष्टाचार ज़्यादा है, और दूसरा कामगार मेहनती नहीं हैं.
 
लेख में आगे लिखा है कि सोशन मीडिया और भारतीय मीडिया में भी हाल ही में चीन के प्रॉडक्ट्स का बहिष्कार करने के बारे में काफी बातें हुई हैं. यह केवल लोगों की भावनाओं को भड़काने वाला है. अलग-अलग कारणों से भी भारतीय प्रॉडक्ट हरगिज चीन के प्रॉडक्ट्स का मुकाबला नहीं कर सकते हैं.
 
 
ग्लोबल टाइम्स में लिखा है कि भारत को अभी हाईवे और सड़कें तक बनाने हैं और वहां बिजली और पानी की हमेशा किल्लत रहती है. लेख में यह भी लिखा है कि सबसे बुरी बात यह है कि हर सरकारी विभाग में भ्रष्टाचार बहुत है. चीन ने अमेरिका के साथ दोस्ती के लिए भी भारत को अच्छे लताड़ा है.
 
लेख में लिखा है कि अमेरिका आज तक किसी का दोस्त नहीं हुआ है. अमेरिका, भारत को लेकर सिर्फ इसलिए दोस्ती कर रहा है, ताकि वह चीन को रोक सके, क्योंकि अमेरिका चीन के विकास और दुनिया में बढ़ती उसकी ताकत से हमेशा से जलता है.
First Published | Wednesday, October 19, 2016 - 17:39
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: Chinese Media said India Can Only Bark Their Products Can not Compete
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • कजाकिस्तान में भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी से मिलते अफगानी राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी
  • उत्तराखंड के बद्रीनाथ मंदिर में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
  • मुंबई के केलु रोड स्टेशन पर एक ट्रेन में सवार अभिनेता विवेक ओबेरॉय
  • मुंबई में अभिनेत्री सनी लियोन "ज़ी सिने पुरस्कार 2017" के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • सूफी गायक ममता जोशी, पटना में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देते प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी
  • मुंबई में आयोजित दीनानाथ मंगेसकर स्मारक पुरस्कार समारोह में अभिनेता आमिर खान
  • चेन्नई बंदरगाह पर भारतीय तटरक्षक बल आईसीजीएस शनाक का स्वागत
  • आगरा में ताजमहल देखने पहुंचे आयरलैंड के क्रिकेटर
  • अरुणाचल प्रदेश में सेला दर्रे पर भारी बर्फबारी का एक दृश्य