इस्लामाबाद. पाकिस्तान में चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का विरोध तेज हो गया है. पाकिस्तानी सांसदों ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को इसे लेकर चेताया हैं. 
 
पाकिस्तानी संसद की योजना और विकास संबंधी स्थायी समिति के चेयरमैन सांसद ताहिर मशादी ने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे की तुलना ईस्ट इंडिया कंपनी से की है.
 
उन्होंने कहा कि हमें चीन-पाकिस्तान की दोस्ती पर गर्व है लेकिन राष्ट्रीय हितों से किसी भी प्रकार का समझौता नहीं होना चाहिए. समिति के कई सदस्य पहले भी इस पर चिंता जाहिर कर चुके है. 
 
गौरतलब है कि चीन और पाकिस्तान 46 अरब डॉलर की लागत से चीन-पाकिस्तान इकनोमिक कॉरिडोर बना रहे हैं जो बलूचिस्तान से लेकर पाक अधिकृत कश्मीर तक फैला हुआ है.
 
दरअसल इसके माध्यम से चीन बिना हिन्द महासागर का चक्कर लागए बिना अपना सामान दुनिया के अन्य हिस्सों तक पहुंचा पायेगा. जिसे लेकर पाकिस्तान की जनता में रोष हैं.