इस्लामाबाद. पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बांग्लादेश में अपने संदर्भ में की गई एक टिप्पणी को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया है. मोदी ने बांग्लादेश यात्रा के दौरान पाकिस्तान को भारत के लिए ‘सिरदर्द’ बताया था. इस टिप्पणी पर पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता काजी खलीलुल्लाह ने कहा, “भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा द्विपक्षी संबंधों को ‘सिरदर्द’ कहना अफसोसजनक है. पाकिस्तान और बांग्लादेश के बीच फूट डलवाने की भारत की नीति कभी कामयाब नहीं होगी.”

पाक ने कहा, फूट डलवा रहा है भारत
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व और भारत के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने में विश्वास रखता है. खलीलुल्लाह के मुताबिक, “भारत की नेगेटिव भूमिका पर हमें आपत्ति है. यह दुखद है कि भारतीय नेता ऐसे काम कर रहे हैं, जो संयुक्त राष्ट्र के घोषणापत्रों के खिलाफ हैं, बल्कि वे दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करके भी गौरवान्वित महसूस करते हैं.” खलीलुल्लाह ने जोर देकर कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के लोगों के बीच न सिर्फ धार्मिक संबंध हैं, बल्कि दोनों ही देशों ने उपनिवेशी ताकतों के खिलाफ लड़ाई और आजादी के लिए संघर्ष किया.

क्या कहा था मोदी ने
रविवार को ढाका यूनिवर्सिटी में संबोधित करते हुए मोदी ने कहा था, “पाकिस्तान आए दिन भारत को डिस्टर्ब करता है, जोकि सिरदर्द बन चुका है. पाकिस्तान लगातार आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है.” 1971 में बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम के दौरान पाकिस्तान के 90,000 सैनिकों के भारत द्वारा बंदी बनाए जाने के वाकये को याद करते हुए मोदी ने कहा था, “अगर हम कूटनीतिक पूर्वाग्रहों से ग्रस्त होते तो हमें नहीं मालूम कि उस वक्त हमारा फैसला क्या होता.”

IANS से भी इनपुट