इस्लामाबाद. पाकिस्तान में सरकार और सेना के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा हैं. सेना को ऐसा लगता है कि प्रधानमंत्री नवाज शरीफ सेना से जुड़ी जानकारियां पाकिस्तानी प्रेस में रिलीज कर रहे हैं.
 
पाकिस्तानी अखबार डॉन ने पिछले हफ्ते अपनी एक खबर में कहा था कि पिछले दिनों हुई एक बैठक के दौरान हक्कानी नेटवर्क, लश्कर-ए-तैयबा और तालिबान जैसे आतंकी संगठनों को सेना के परोक्ष समर्थन को लेकर असैन्य सरकार एवं सैन्य प्रतिष्ठान के बीच तनातनी हुई थी.
 
जिसके बाद से इस खबर को प्रकाशित करने वाले पत्रकार सायरिल अलमिदा के पाकिस्तान से बाहर जाने पर रोक लगा दी गयी थी. 
सेना को शक है की ये खबर इस पत्रकार को नवाज शरीफ ने दी थी.
 
ये बैठक रावलपिंडी में सेना के कोर कमांडर हेडक्वार्टर्स में हुई थी. जिसकी अध्यक्षता खुद सेना प्रमुख राहिल शरीफ कर रहे थे. सेना ने इस तरह से सूचनाओं के लीक होने पर चिंता जताई है. सेना का ये भी कहना है कि ये मामला राष्ट्रीय सुरक्षा के उल्लंघन का बनता है.