मॉस्को. सीरिया संकट की वजह से रुस और अमेरिका के बीच तनाव बहुत ज्यादा बढ गया है. यहां तक की दोनों के बीच युद्द जैसे हालात बन गए हैं. अगर युद्द हुआ तो पूरी दुनिया इसकी चपेट में आएगी और यह तीसरा विश्व युद्द हो सकता है.  रुस के निडर राष्ट्रपति पुतिन को भी युद्द का डर सता रहा है.पुतिन को लग रहा है कि तीसरा विश्व युद्द हो सकता है.
 
 सीरीया बनेगा युद्द का कारण
रुस ने अपने अधिकारियों से कहा है कि विदेशों में रह रहे  अपने करीबियों को तुरंत वापस बुलाएं मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक रुस के बड़े नेताओं और अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के कार्यालय की तरफ से यह चेतावनी जारी की गई है.
 
रुस जिस तरह आक्रामक हो गया है उससे डरने के साफ कारण नजर आ रहे हैं. रुस ने अपनी सीमा पर मिसाइलों की तैनाती कर दी है यह बात सीएनएन की एक रिपोर्ट में कही गई है. बता दें कि रुस शुरु से ही आक्रामक रहा है.
पश्चिम के देश भी सीरिया मुद्दे पर अमेरिका के साथ हैं. वे लगातार सीरिया में रुस की भूमिका की आलोचना कर रहे हैं. हाल ही में पुतिन फ्रांस जाने वाले थे लेकिन उन्होने दौरा रद्द कर दिया क्योंकि फ्रांस के राष्ट्रपति ने रुस पर यह आरोप लगाया था कि रुस सीरिया में युद्द अपराधों में शामिल है.
रुस अमेरिका में बढते तनाव की वजह से स्थिति बहुत चिंताजनक हो गई है. ये दोनो देश शीतयुद्द के बाद से ही एक दुसरे के प्रतिद्दंदी रहे हैं और तभी से दोनों के बीच के रिश्ते ठीक नहीं रहे हैं, हांलाकि पुतिन के आदेश की असली वजह अभी तक साफ नहीं हो पाई है. 
सीरिया में दोनो देशों के हस्तक्षेप की वजह से बढा यह तनाव सिविल वार का रुप ले चुका है. सीरिया दुनिया कि दो महाशक्तियों का अखाड़ा हो गया है.  अमेरिका वहां विद्रोहियों को समर्थन दे रहा है जबकि रुस असद सरकार की मदद कर रहा है.