इस्लामाबाद. भारत पाकिस्तान को विश्व से अलग-थलग करने की नीति के बाद पाकिस्तान भी भारत के प्रभाव को कम करन के लिए नई रणनीति बनाने जा रहा है. दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ (सार्क) में भारत के प्रभाव की काट की मुहिम के तहत पाकिस्तान साउथ एशियन इकोनॉमिक अलायंस को खड़ा करना चाहता है.
 
पाकिसतान इस अलायंस में चीन, ईरान और आस-पास के पश्चिम एशियाई गणराज्यों को शामिल करने की कोशिश कर रहा है. पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट में बुधवार को इसका खुलासा किया गया है.
 
पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान से एक संसदीय प्रतिनिधिमंडल ने ये बात पिछले सप्ताह वाशिंगटन की अपनी पांच दिवसीय यात्रा के दौरान रखी. फिलहाल यह प्रतिनिधिमंडल न्‍यूयॉर्क में ही है. सीनेटर मुशाहिद हुसैन सैयद की के साथ हुई बातचीत का हवाला देते हुए रिपोर्ट में लिखा है कि एक साउथ एशियन इकोनॉमिक अलायंस पहले ही उभर चुका है.
 
उन्होंने कहा कि इस साउथ एशियन इकोनॉमिक अलायंस में चीन, ईरान और उसके आस-पास के पश्चिम एशियाई गणराज्य शामिल होंगे. उन्होंने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का उल्लेख साउथ एशिया को मध्य एशिया से जोड़ने वाले एक अहम आर्थिक मार्ग के तौर पर किया.
 
सैयद ने कहा कि ग्वादर बंदरगाह ना केवल चीन बल्कि उसके आस-पास घिरे साउथ एशियाई देशों के लिए सबसे नजदीकी बंदरगाह होगा. उन्‍होंने कहा कि हम चाहते हैं कि भारत भी इस व्यवस्था का हिस्सा बने.