नई दिल्ली. भारत के नवीनतम संचार उपग्रह जीसैट-18 (जीएसएटी-18) का गुरुवार तड़के फ्रेंच गुयाना के कॉरू से प्रक्षेपण कर दिया गया. यह प्रक्षेपण सफल रहा. इससे पहले खराब मौसम के कारण बुधवार को इसे 24 घंटे के लिए टाल दिया गया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
गुरुवार को मौसम सही होने के बाद इसका लॉन्च यूरोपीय एरियन-5 वीए-231 रॉकेट के जरिए तड़के करीब 2 बजे  किया गया. लॉन्च के बाद बेंगलुरु स्थित इसरो मुख्यालय ने मिशन की सफलता की घोषणा की. जीसैट-18 इसरो का 20वां उपग्रह है, जिसे यूरोपीय स्पेस एजेंसी ने लॉन्च किया है. एरियन स्पेस लॉन्चर परिवार का यह कुल मिलाकर 280वां लॉन्च हैं. 
 
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि तेज हवाएं चलने के कारण प्रक्षेपण को एक दिन के लिए टाल दिया गया था. उल्‍लेखनीय है कि जीसैट-18 बेहद भारी उपग्रह है और इसका भार 3,404 किग्रा है. लिहाजा इसे यूरोपीय एरियन-5 रॉकेट से प्रक्षेपित किया गया है.